विद्युत विभाग में फर्जी नियुक्ति पत्र देकर 15 लाख की ठगी, 3 के खिलाफ एफआईआर

0
704

मथुरा। उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री के गृह जनपद में विद्युत विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर 15 लाख की ठगी किए जाने का मामला सामने आया है। ठगों द्वारा युवक को फर्जी नियुक्ति पत्र भी थमा दिया गया। जब युवक नियुक्ति पत्र लेकर ज्वाइन करने पहुंचा तो उसे अपने ठगे जाने की जानकारी मिली। मामले में 3 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।

ठगी करने वाला मुख्य आरोपी सनी मलिक

प्राप्त विवरण के अनुसार, थाना नौहझील क्षेत्र के गांव जरैलिया (बाजना) निवासी अवनीश चौधरी पुत्र स्व. महावीर सिंह चौधरी दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ाई पूरी कर कोचिंग करा  रहा था। इसी दौरान उसकी दोस्ती सनी मलिक पुत्र सीबी सिंह मलिक निवासी सिविल लाइंस, सर्कुलर रोड मुजफफरनगर से हुई।

ठगी का शिकार हुआ अश्विनी चौधरी

सनी मलिक ने अवनीश को भरोसा दिलाया कि उसकी विद्युत विभाग में ऊपर तक पहुंच है। मेरे रिश्तेदार आर.के.राणा ऊंचे पद पर कार्यरत है,मैं तुम्हारी नौकरी विद्युत विभाग में लगवा दूंगा। अवनीश उसकी बातों में आ गया और सनी मलिक को लेकर अपने घर आ गया। यहां सनी मलिक और अवनीश के परिवार के बीच 15 लाख रूपए में नौकरी लगवाने की बात तय हुई। इसी समय सनी मलिक ने 5 लाख रूपए नगद एव 10 लाख के चार चेक स्टेट बैंक बाजना के ले कर चला गया। इसके बाद 10 मई 2019  का लिपिक पद पर  नियुक्ति पत्र थमा दिया गया। जब युवक अपना नियुक्ति पत्र लेकर मेरठ स्थित विभाग के कार्यालय में ज्वाइन करने के लिए पहुंचा तो पता लगा कि यह नियुक्ति पत्र फर्जी है। यह सुनते ही युवक के पैरों तले जमीन खिसक गई और उसे अपने ठगे जाने का एहसास हुआ। इसके बाद लुटे पिटे युवक ने सनी मलिक को तलाश कर रकम वापस मांगी तो  जल्दी ही नौकरी दिलाने का वायदा कर लापता हो गया,इसके बाद आरोपी का मोबाइल फोन बन्द हो गया और लापता हो गया,ठगी का शिकार हुए युवक ने थाने इसकी शिकायत एस एस पी   मथुरा से की,जिसके बाद थाना नौहझील में 3 युवकों सनी मलिक निवासी सिविल लाइंस सर्कुलर रोड मुजफफरनगर और आयुष एवं उस्मान निवासीगण अज्ञात के खिलाफ धारा 467, 468, 471, 420 एवं 406 आईपीसी के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। तीनों आरोपी युवक फिलहाल फरार है।इस संबध में पीड़ित अश्वनी चौधरी ने विष बाण को बताया कि इस गैंग द्वारा उसके अलावा लखनऊ,नोएडा , मुजफ़्फनगर के एक दर्जन से अधिक युवकों से भी ठगी की है।

बिजली विभाग का फर्जी नियुक्ति पत्र