फिर खुलेंगे बांके बिहारी के पट, भक्तों में हर्ष की लहर, कोर्ट ने दिया आदेश

0
392

मथुरा। विश्व प्रसिद्ध बांके बिहारी मंदिर के बंद पट खोलने को लेकर सिविल जज जूनियर डिवीजन ने शुक्रवार को आदेश जारी कर दिया। सिविल जज द्वारा जारी किए गए आदेश में स्पष्ट कहा गया है कि न्यायालय द्वारा 15 अक्टूबर को बांके बिहारी मंदिर के पट खोलने को लेकर जारी किया आदेश आज भी प्रभावी है। अतः नया आदेश जारी करने का औचित्य नहीं बनता है। इस आदेश के साथ ही संत महात्माओं सहित बांके बिहारी के भक्तों में हर्ष का माहौल है। वहीं स्थानीय व्यापारी भी काफी खुश नजर आ रहे हैं।

कोविड-19 के चलते मार्च माह में लगाए गए लाॅकडाउन के दौरान ही सभी मंदिर आदि भी बंद कर दिए गए थे। इसमें वृंदावन स्थित श्री बांके बिहारी मंदिर भी शामिल था। इसके बाद कोरोना लाॅकडाउन के हटने के बाद जब सामान्य जन जीवन पटरी पर लौटने लगा तो मंदिरों को खोलने की कवायद भी शुरू हुई लेकिन भक्तों की भीड़ को देखते हुए मंदिरों को खोलने के आदेश नहीं दिए गए। इसके बाद सिविल जज जूनियर डिवीजन मथुरा ने 15 अक्टूबर को बांके बिहारी मंदिर को 17 अक्टूबर से खोलने के लिए आदेश जारी किए थे। इसके साथ ही मंदिर में कोविड-19 के नियमों का पालन करने के भी सख्त निर्देश दिए गए। 17 अक्टूबर को विख्यात मंदिर बांके बिहारी मंदिर के खुलने के साथ ही हजारों भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी। कोविड-19 के नियमों की जमकर धज्जियां उड़ी। सेवायतों ने भी मनमानी करते हुए अपने चहेते यजमानों को वीआईपी तरीके से दर्शन कराए। यही हाल कमोबेश 18 अक्टूबर को भी रहा। इसके चलते मंदिर प्रबंधन ने 19 अक्टूबर से बांके बिहारी मंदिर के पट बंद करते हुए मंदिर को बंद कर दिया।

इस आदेश के विरोध में वृंदावन के संत-महात्मा, भक्त एवं स्थानीय व्यापारी सड़क पर उतर आए। धर्म रक्षा संघ के बैनर तले प्रदर्शन हुए। गत दिवस मंदिर के बाहर दीपदान कार्यक्रम आयोजित किया गया। संत-महात्माओं ने मंदिर के पट न खुलने की स्थिति में जबरन मंदिर में प्रवेश करने की चेतावनी तक दे दी। वहीं 19 अक्टूबर को हिमांशु गोस्वामी और 21 अक्टूबर को प्रदीप गोस्वामी सहित 61 वादियों ने सिविल जज जूनियर डिवीजन में बांके बिहारी मंदिर को खुलवाए जाने के लिए याचिका दायर की। उक्त प्रार्थना पत्रों का संज्ञान लेते हुए सिविल जज गजेंद्र सिंह द्वारा शुक्रवार को मंदिर को खोलने को लेकर आदेश जारी करते हुए कहा कि पूर्व में 15 अक्टूबर को ही बांके बिहारी मंदिर को खोले जाने को लेकर न्यायालय द्वारा आदेश जारी किया जा चुका है। यह आदेश आज भी प्रभावी है। अतः मंदिर खुलवाए जाने को लेकर नया आदेश जारी करने का कोई औचित्य नहीं बनता है। यह आदेश जारी होने के साथ संत-महात्मा, भक्तगण एवं स्थानीय व्यापारियों में खुशी का माहौल है। विषबाण ने बांके बिहारी मंदिर के प्रबंधन से बात करने यह जानने का काफी प्रयास किया कि बांकेबिहारी के पट कब से खुलेंगे, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।