वरिष्ठ पत्रकार ब्रजगोपाल राय ‘चंचल’ पंचतत्व में विलीन

0
121
वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक ब्रजगोपाल राय 'चंचल' (फाइल फोटो)

 

मथुरा। सबकी कहानियां लिखने वाले वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक गुरूवार को अपनी जिंदगी की कहानी अधूरी छोड़कर दुनिया से विदा हो गए। पार्थिव शरीर को उनके पुत्र ने मुखाग्नि दी। उनके निधन पर बड़ी संख्या में पत्रकारों एवं समाजसेवियों ने शोक व्यक्त किया है।
पश्चिम बंगाल के मूल निवासी ब्रज गोपाल राय चंचल पिछले करीब 30 वर्षों से कोसीकलां में आकर किराए के मकान में रह रहे थे। चंचल ने देश की अनेक मशहूर पत्र -पत्रिकाओं सत्यकथा, मनोहर कहानियां, दिल्ली प्रेस में लंबे समय तक पत्रकारिता की। इनका नाम खोजी पत्रकारिता के लिए भी जाना जाता है। विषबाण मीडिया ग्रुप के लिए भी लेखन का कार्य किया। अनेक पत्र-पत्रिकाओं के सम्पादक भी रहे हैं। श्री चंचलजी वरिष्ठ पत्रकार होने के बावजूद आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहे थे। दो दिन पूर्व ब्रेन हेमरेज के चलते इन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां गत दिवस इन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया। रात्रि में करीब 1.30 बजे इन्हें दिल का दौरा पड़ा। इसके बाद ही उनकी सांसे थम गईं। इनके पार्थिव शरीर को इनके पुत्र ने मुखाग्नि दी। इनकी पत्नी की मौत पूर्व मे हो चुकी थी। उन्होंने अपने पीछे एक बेटी-एक बेटे (दोनों अविवाहित) को बिलखते छोड़ा है। इनके निधन पर समाजसेवी धर्मवीर पत्रकार, सोनू गोयल, मनीष अग्रवाल, पूरन सिंह एडवोकेट, शरद आर्य, हरीश शरण, दीनदयाल एडवोकेट, अनंतस्वरूप वाजपेयी देशभक्त, मोहनस्वरूप भाटिया, विजय आर्य विद्यार्थी, मफतलाल अग्रवाल, चंद्रशेखर गौड़, योगेश खत्री, सुरेंद्र चतुर्वेदी, वेद प्रकाश गौतम, सीपी सिकरवार, विवेक मथुरिया, नरेंद्र भारद्वाज, विनोद शर्मा, मुकेश अग्रवाल, महेश वाष्र्णेय, पवन गौतम, कपिल शर्मा, प्रदीप राजपूत एडवोकेट, डाॅ. अशोक अग्रवाल, समाजसेवी पं. शोभाराम शर्मा सहित अन्य गणमान्य नागरिकों ने शोक संवेदना व्यक्त की है।