अमर कालोनी हत्याकांडः पीड़ितों का राशन हुआ बंद, सरकारी नौकरी का वायदा हवा-हवाई

0
491

मथुरा। अमर कॉलोनी में करीब साढे़ तीन वर्ष पूर्व हुए दोहरे हत्याकांड का आज तक पुलिस खुलासा नहीं कर सकी है। जबकि इस हत्याकांड में मारे गए दंपत्ति की एक पुत्री सिस्टम की नाकामी के चलते उदासीन होकर आत्महत्या भी कर चुकी है। न ही सरकार इस परिवार को सरकारी नौकरी, निशुल्क शिक्षा एवं निशुल्क राशन का वादा भी पूरा नहीं हुआ है। यहां तक कि सत्ताधारी मंत्री की घोषणा के बाद भी मुआवजा तक नहीं मिल सका है।
आपको बता दें कि थाना हाईवे अंतर्गत अमर कालोनी निवासी बनवारी(45) एवं रविबाला(42) की हत्या अज्ञात बदमाशों द्वारा करीब साढे़ तीन वर्ष पूर्व कर दी गई थी। इस दोहरे हत्या कांड को खोलने में पुलिस ने कोई दिलचस्पी नहीं ली। कुछ राजनैतिक संगठनों एवं समाजसेवी संगठनों के विरोध के बाद पुलिस ने प्रयास शुरू किए। एसआईटी जांच हुई। नारको टेस्ट हुए। हाईकोर्ट में पीएलआई भी दाखिल हुई। जिसकी सुनवाई तत्कालीन चीफ जस्टिस डीबी भोंसले ने की और त्वरित कार्यवाही के आदेश दिए लेकिन साढे़ तीन वर्ष बाद भी आज तक इस कांड का खुलासा नहीं हो सका है।
यहां तक कि पीड़ितों में सबसे बड़ी बेटी स्व. राखी का संघर्ष भी काम नही आया और राखी ने सिस्टम से निराश हो आत्महत्या कर ली थी, लेकिन राखी का बलिदान भी सरकार और प्रशासन की कुंभकर्णी नींद से नहीं जगा सका। राखी की मृत्यु के तीन वर्ष बाद भी अमर कॉलोनी दोहरे हत्या कांड का अभी तक खुलासा नही किया जा सका है।
राष्ट्रीय लोकराज पार्टी एवं सामाजिक संगठनों ने अमर कॉलोनी स्थित उनके निवास पर बुधवार को श्रद्धांजलि सभा में भाग लिया। पुष्पांजलि अर्पित कर एवं मौन रख राखी की आत्मा की शांति एवं सरकार को सद्बुद्धि देने की प्रार्थना की। राष्ट्रीय लोकराज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज चैधरी ने कहा कि दंपत्ति की मौत के बाद भाजपा सरकार में मंत्री चौ. लक्ष्मीनारायण ने पीड़ित परिवार को 5 लाख रूपए का मुआवजा दिए जाने की घोषणा की लेकिन यह मुआवजा नहीं मिला। एक सरकारी नौकरी दिए जाने का वायदा किया लेकिन यह वायदा भी हवा हवाई साबित हुआ। हाईकोर्ट ने निशुल्क शिक्षा और राशन के लिए साध्वी ऋतंभरा के विद्यालय समविद् गुरूकुलम् के माध्यम से किए जाने के आदेश दिए, लेकिन कोरोना के चलते लगे लाॅकडाउन में अब उनकी जहां उनकी शिक्षा बंद हो चुकी है वहीं बीते तीन माह से राशन भी बंद किया जा चुका है। राशन की व्यवस्था भी नहीं हो पा रही है।


कहा कि पार्टी शुरू से ही इस मुद्दे पर संघर्ष करती रही है। हम पुनः प्रशासन और सरकार से इस घटना के खुलासे की मांग दोहराते हैं। हम मांग करते हैं कि तात्कालिक जिलाधिकारी और सरकार के प्रतिनिधियों द्धारा पीड़ित बच्चों के बालिग होने पर सरकारी नौकरी देने का किया वादा पूरा करना चाहिए।
घटना की खुलासा करने के लिए संघर्ष करती रहीं अखिल भारतीय महिला फेडरेशन की प्रदेश सचिव राधा चैधरी ने श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए कहा कि अमर कॉलोनी हत्याकांड का न खुलना पुलिस-प्रशासन की घोर विफलता है। सरकार तीन साल में भी दोषियों को सलाखों के पीछे नहीं पहुंचा पाई है।
श्रद्धांजलि सभा में वरिष्ठ रालोपा नेता मृदुल शर्मा ने कहा कि जितने वादे इस पीड़ित परिवार से किए गए हैं। वह सभी शीघ्र पूरे होने चाहिए। पार्टी घटना के खुलासे का प्रयास करती रहेगी।
पीड़ित दीपा और राहुल ने कहा कि इतना समय हो गया हमारे माँ-बाप के कातिलों का पता नहीं चला। बड़ी बहन ने भी आत्महत्या कर ली। हमारे माता-पिता के कातिलों को सजा जरुर मिलनी चाहिए। साथ ही घोषणा के अनुसार सरकार को हमारी सरकारी नौकरी और निशुल्क शिक्षा एवं राशन की व्यवस्था भी करनी चाहिए।
इस दौरान रालोपा के महावीर वशिष्ठ, कृष्ण कुमार, मो. इकबाल, अमन शर्मा, भावना शर्मा, प्रियंका शर्मा, लोकवर्धन भाटिया, सौरभ शर्मा, अमित भारद्धाज, दीपक मिश्र, राहुल शर्मा आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे