ब्रज चौरासी कोस को तीर्थस्थल घोषित कराने का संदेश लेकर निकली विप्र चेतना यात्रा

0
85

मथुरा। उत्तर प्रदेश युवा ब्राह्मण महासभा द्वारा आयोजित विप्र चेतना यात्रा का शुभारंभ भव्यता पूर्वक हुआ। यात्रा का उद्देश्य मथुरा ब्रज चैरासी कोस को तीर्थस्थल घोषित कराना और ब्राह्मणों को आपसी मतभेद भुलाकर एकजुट होने का संदेश देना है। यह यात्रा जनपद की पांचों विधानसभाओं के लगभग 121 गांवों में भ्रमण करेगी। विप्रों को अपने साथ जोड़ने का प्रयास करेगी।
गोवर्धन रोड स्थित रतनलाल फूलकटोरी देवी सीनियर सेकेंडरी स्कूल से आरंभ हुई विप्र चेतना यात्रा का शुभारंभ संस्थापक अध्यक्ष प. राजेश पाठक एवं अखिल भारत वर्षीय ब्राह्मण महासभा के जिलाध्यक्ष रमेशदत्त शर्मा ने ध्वज फहराकर किया। यात्रा में 30 से अधिक वाहन केसरिया ध्वज लेकर चल रहे थे। भगवान परशुराम का जयघोष करते हुए युवा विप्र एकता का नारा बुलंद किए हुए थे। रतन लाल फूल कटोरी कॉलेज से प्रारंभ यात्रा सर्वप्रथम वृंदावन पहुंची। यहां परशुराम पार्क स्थित परशुराम प्रतिमा पर माल्यार्पण कर पूजन किया गया। यात्रा का स्वागत राधाकुंड में भव्यता पूर्वक स्वागत किया गया। इससे पूर्व यात्रा का राल के निकट जुल्हैंदी गांव के युवकों ने भी स्वागत सत्कार किया। गोवर्धन में मुकुट मुखारबिंद मंदिर मानसी गंगा पर सेवायत कौशिक परिवारों द्वारा स्वागत किया। यात्रा जतीपुरा पहुंचकर सभा में तब्दील हो गई। पं. देव रतन प्रधान की अध्यक्षता में हुई। यहां उत्साही नवयुवाओं ने विप्र चेतना यात्रा में शामिल पदाधिकारियों को फूलमाला पहना कर और उत्तरीय ओढाकर स्वागत सम्मान किया।
विशाल सभा को संबोधित करते हुए जिला अध्यक्ष दीपक कौशिक ने कहा कि विप्र एकता यात्रा का मकसद श्रीकृष्ण नगरी की जन्मभूमि मथुरा को तीर्थ स्थल घोषित करना तथा ब्रज को तीर्थ के हिसाब से सरकार विकसित करें। मंदिर अधिकरण किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे। बताया कि यह सिर्फ प्रथम चरण की यात्रा है। अभी जनपद में चार चरण की चेतना यात्रा शेष है। सभी विधानसभाओं में जाकर हमें विप्रों में एकता की अलख जगानी है।
प्रदेश अध्यक्ष डॉ. आशुतोष भारद्वाज एवं मंडल अध्यक्ष राजवीर दीक्षित ने कहा कि ब्राह्मण कभी जातिवादी नहीं रहा है। सदैव ब्राह्मणों ने वासुदेव कुटुंबकम की भावना से कार्य किया है। आज वर्तमान सरकारों में ब्राह्मण उपेक्षा का शिकार है।
यदि ब्राहमण एक हो जाए तो उसे किसी अन्य की आवश्यकता नहीं है।
संस्थापक अध्यक्ष प. राजेश पाठक एवं महानगर अध्यक्ष चंद्रशेखर गौड़ ने कहा कि विप्र चेतना यात्रा का मकसद ब्रज चैरासी कोस को तीर्थस्थल घोषित कराना है। ताकि समूचे ब्रज चैरासी कोस में मांस, मंदिरा की बिक्री बंद हो सके। इनके सेवन से युवाओं पर बुरा असर पड़ रहा है। वह व्यसनों में फंसकर अपना जीवन बर्बाद कर रहे हैं। साथ ही यदि ब्रज चैरासी कोस को तीर्थस्थल घोषित कर दिया जाता है तो इससे यहां धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। इससे रोजगार के नए अवसर मिलेंगे। अतः युवा ब्राहमण महासभा एकस्वर में सरकार से इस मांग पर विचार करने और इसे पूरा करने की मांग करती है।
इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष भानु पाराशर, ब्लॉक अध्यक्ष निर्मल कौशिक, केशव, जिला महामंत्री भानु भारद्वाज, सुमित लंबरदार, श्याम शर्मा, गोपाल कौशिक, मुकेश कौशिक, कुलदीप पाराशर, अंकुर कौशिक, राष्ट्रीय प्रवक्ता पं बिहारीलाल वशिष्ठ, प्रदेश उपाध्यक्ष बालकिशन दीक्षित, जिला मंत्री पवन मुखिया, प्रदेश महामंत्री आशीष चतुर्वेदी, महानगर संयोजक आशीष शर्मा, राजेश कौशिक, हरिमोहन दुबे, कुलदीप पाराशर, महानगर मंत्री कान्हा कौशिक, बलदेव विधानसभा संयोजक विनोद उपाध्याय, महानगर मंत्री कृष्ण चंद्र भारद्वाज, राया ब्लाॅक अध्यक्ष सुशील शर्मा आदि उपस्थित थे।