कृषि अध्यादेश के विरोध में उतरे किसान, मथुरा में किया चक्का जाम

0
80

मथुरा। केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में पारित किए गए कृषि विधेयक के विरोध में भारतीय किसान यूनियन टिकैत के राष्ट्रीय आव्हान पर जनपद की विभिन्न तहसीलों में स्थानीय किसान यूनियन के नेतृत्व में किसानों ने चक्का जाम कर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान जमकर केंद्र एवं प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई। साथ ही किसानों ने समस्या का समाधान न होने पर वृहद आंदोलन करने की भी चेतावनी दी।
भारतीय किसान यूनियन टिकैत ने मांट तहसील इलाके के बाजना गौमत रोड और राया नौहझील मार्ग पर बारहमासी चैराहे को जाम कर विरोध कर प्रदर्शन किया। काफी संख्या में पहुंचे किसान नेता और किसानों ने रोड को जाम कर दिया। सड़क पर धूप में बैठकर किसानों ने अपना विरोध जताया। साथ ही सरकार से उनकी समस्याओं का समाधान करने की मांग की। किसान नेताओं ने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा 5 जून को लागू किए अध्याय देशों का सभी जगहों पर किसान विरोध कर रहे हैं। सरकार इन आदेशों को एक देश-एक बाजार के रूप में कृषि सुधार की दिशा में एक बढ़ता कदम बता रही है। जबकि भारतीय किसान यूनियन इन आदेशों को कृषि क्षेत्र में कंपनी राज के रूप में देख रही है। किसान इसके विरोध आवाज उठा रहे हैं। किसानों की मुख्य मांगे हैं कि कृषि और किसान विरोधी तीनों अध्यादेश को तुरंत वापस लिया जाए। न्यूनतम समर्थन मूल्य को सभी फसलों पर लागू करते हुए कानून बनाया जाए। समर्थन मूल्य से कम पर फसल खरीदी हो तो उसे अपराध की श्रेणी में शामिल किया जाए। डीएपी खाद के दामों में वृद्धि को कम किया जाए। यदि सरकार ने हमारी मांगे नहीं मानी तो किसान आगे भी आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे। किसानों के प्रदर्शन की सूचना पाकर एसडीएम मांट डॉ. सुरेश कुमार और सीओ रविकांत पाराशर मौके पर पहुंच गए। भाकियू के नेताओं ने अपनी मांगों को लेकर प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन एसडीएम मांट को ज्ञापन सौंपा।

मंडल अध्यक्ष आगरा गजेंद्र परिहार की अगुवाई में आगरा मंडल के अंतर्गत आने वाले चारों जनपदों में चक्का जाम की मुहिम को सुचारू और विधिवत रूप से जारी रखा गया। इसमें पेट्रोल पंप बरौली बलदेव कैलाश मार्ग पर चक्काजाम किया गया। जहां किसान सरदारी ने केंद्र की किसान विरोधी नीतियों का विरोध किया। साथ ही प्रदेश व केंद्र की सरकारों की जमकर आलोचना करते हुए कैलाश मार्ग का चक्का जाम कर दिया। 2 घंटे तक बलदेव कैलाश मार्ग पर आवागमन बाधित रहा। इस विरोध प्रदर्शन में प्रमुख रूप से ललित शर्मा प्रवक्ता आगरा, सोनवीर, धरमवीर, उदयवीर, छम्मी लाल उर्फ तोरण सिंह, ओंकार सिंह, भूपत राम, सत्यदेव देशराज, जयराम, नंदकिशोर बॉबी, लाला राम, रामअवतार,
एदाल, फतेह सिंह, सौप्रसाद, दीनदयाल, रामगोपाल, मोहन सिंह, चंदन, सुंदर, नरेंद्र, धर्मेंद्र, जितेंद्र, प्रमोद, दुर्गेश, बनवारी, बनारसी सहित तमाम क्षेत्रीय किसानों ने विरोध प्रदर्शन में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।