मुकुट मुखारबिंद मंदिर घोटालाः कानून के शिकंजे में फंसे रमाकांत सहित 12 घोटालेबाज

0
868
रिसीवर रमाकांत गोस्वामी

मथुरा। गोवर्धन के मुकुट मुखारबिंद एवं हरगोविंद मंदिर की संपत्तियों और धनराशि को लेकर हुए करोड़ों के घोटाले में गत दिवस लखनऊ में 12 आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो गया। मुकदमा दर्ज होने से घोटालेबाजों में हड़कंप मच गया है। शिकायतकर्ता के अनुसार अभी इस घोटाले में अन्य कई लोग भी शामिल हैं। इनके खिलाफ भी जल्द मुकदमा दर्ज हो सकता है।
बता दें कि द इंपीरियल पब्लिक फाउंडेशन ने आरोप लगाया था कि गोवर्धन स्थित मुकुट मुखारबिंद के रिसीवर ने मंदिर की संपत्तियों एवं धनराशि का गबन किया था। आरोपियों ने एक फर्जी कंपनी बनाकर मंदिर की धनराशि से जमीनों की अवैध रूप से खरीद फरोख्त की थी। साथ ही मुकुट मुखारबिंद में सजने वाले फूल बंगला के नाम पर भी करोड़ों की धनराशि के वारे न्यारे किए गए। इसकी शिकायत करीब दो वर्ष पूर्व स्थानीय प्रशासन से की गई थी। जांच में मामला सही पाए जाने पर स्थानीय अधिकारियों ने यह मामला शासन को अग्रसारित कर दिया। शासन के आदेश पर गठित एसआईटी ने भी जांच में उक्त सभी आरोपों को सही पाया था। साथ ही यह जांच रिपोर्ट भी शासन को भेज दी थी। हालांकि आरोपियों ने अपनी पहुंच के बल पर मामले को दबाने का प्रयास किया लेकिन जुलाई माह में शिकायकर्ता फाउंडेशन ने अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी से शिकायत कर मामले से अवगत कराया। इसके बाद शासन के दबाव के चलते एसआईटी ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की अनुमति मांगी थी। शासन की अनुमति मिलते ही गत दिवस लखनऊ में 12 आरोपियों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करा दी गई। जिनके खिलाफ मुकदमा दर्ज हुई है इनमें रिसीवर रमाकांत गोस्वामी, मनु ऋषि, संतोष कुमार, रामकृष्ण शर्मा, राधा किशन, ठेकेदार विवेक शर्मा, उनकी मां सिद्धश्री शर्मा, पिंटू सैनी, लट्टू सैनी, बिहारी लाल सैनी, उनकी पत्नी कमलेश सैनी एवं कोकन बाबू मिश्रा के नाम शामिल हैं।
द इंपीरियल पब्लिक फाउंडेशन के अध्यक्ष रजत नारायण ने विषबाण से बातचीत में कहा कि 14 जुलाई 2020 को उन्होंने अपर मुख्य सचिव गृह को लंबित जांच के लिए पत्र लिखा था। इसके बाद यूपी सरकार सक्रिय हुई और एसआईटी द्वारा मुकदमा दर्ज किया गया है। बताया कि अभी कई प्रमुख आरोपियों को एफआईआर में शामिल नहीं किया गया है। इन पर भी शिकंजा कसे जाने के लिए उनकी कानूनी लड़ाई जारी रहेगी। किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा।