मुकदमे लगने पर कांग्रेस-रालोद बोले, होने दो एफआईआर, होते रहेंगे विरोध प्रदर्शन

0
332

मथुरा। सरकार के खिलाफ 5 सितंबर को ताली-थाली बजाने और 9 सितंबर को रात्रि में मोबाइल-मोमबत्ती की रोशनी में विरोध प्रदर्शन करने पर कांग्रेस नेताओं और किसान हित में किए गए प्रदर्शन पर राष्ट्रीय लोकदल के नेताओं के खिलाफ मुकदमे दर्ज होने पर राजनीति तेज हो गई है। दोनों ही विपक्षी पार्टियों ने मुकदमे दर्ज होने के खिलाफ आंदोलन करने और सरकार के खिलाफ जारी प्रदर्शन से पीछे न हटने की बात कही है।

राष्ट्रीय लोकदल ने गत दिवस केंद्र सरकार द्वारा पारित किसान अध्यादेश के खिलाफ जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया था। प्रदर्शन के दौरान केंद्र एवं प्रदेश सरकार की तानाशाही के विरोध में जमकर नारेबाजी भी हुई थी। इसके बाद सिटी मजिस्ट्रेट के आदेश पर रालोद जिलाध्यक्ष सहित अन्य नेताओं के खिलाफ थाना सदर बाजार में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मुकदमा दर्ज होने पर रालोद जिलाध्यक्ष रामरस पाल पौनियां ने कहा कि रालोद ने सदैव किसान हित में ही आंदोलन किए हैं और करती रहेगी। इस तरह की कार्यवाही कर सरकार रालोद को डरा नहीं सकती है। रालोद ने हमेशा ही किसानों की राजनीति की है और करती रहेगी। इस तरह के मुकदमे दर्ज होने से रालोद डरेगी नहीं, न ही पीछे हटेगी। वरन् अब तो किसान हित और मुकदमे दर्ज होने के विरोध में वृहद आंदोलन और धरना प्रदर्शन होगा।

कांग्रेस के युवा नेताओं ने भी गत दिवस सरकार की रोजगार नीतियों के विरोध में बेरोजगारों के समर्थन में 9 मिनट तक मोबाइल-मोमबत्ती जलाकर उसकी रोशनी में होलीगेट चौराहा पर विरोध प्रदर्शन किया था। इस मामले में युवा नेता यतेंद्र मुकद्दम सहित 8 नामजद एवं 20-25 अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। दर्ज हुए मुकदमे के विरोध में कांग्रेस जिलाध्यक्ष दीपक चौधरी कहते हैं कि विरोध प्रदर्शन करने पर सरकार के आदेश पर पार्टी के नेताओं के खिलाफ एफआईआर कराई गई है। जो कि सरकार की दमनकारी नीति को दर्शाता है लेकिन कांग्रेस पार्टी सरकार के इस तरह के कृत्यों से डरने वाली नहीं है। सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी रहेंगे। प्रदेश सचिव मुकेश धरगर ने कहा कि युवा नेताओं के खिलाफ दर्ज मुकदमे से पार्टी डरेगी नहीं। पूरी पार्टी उनके साथ है। भ्रष्टाचार एवं तानाशाही के खिलाफ पार्टी लड़ती रहेगी।