लॉक डाउन से आज तक क्वारंटीन है शनिदेव, प्रमुख मंदिरों के खुलने के बावजूद नहीं खोला गया मंदिर

0
340

मथुरा। सबके संकटों को हरने वाले शनिदेव महाराज कोरोना लाॅकडाउन के चलते गत 6 माह से स्वयं अपने संकटों को निवारण नहीं कर पा रहे हैं। जबकि पिछले कुछ माह में अन्य धार्मिक स्थलों के दर्शन भक्तों के लिए खोले जा चुके हैं। थाना कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले रंगेश्वर महादेव मंदिर के समीप पीपल के पेड़ के नीचे स्थित शनिदेव महाराज लॉक डाउन काल से आज तक लगभग 6 माह से क्वारंटीन है। कोरोना का डर शनिदेव भगवान को इस कदर सता रहा है कि आज तक इस मन्दिर के चारों ओर लगाई गई टीन को प्रशासन द्वारा नहीं हटाया गया है। जबकि प्रदेश सरकार की गाइड लाइन के अनुसार सभी प्रसिद्ध मंदिरों को खोले जाने की अनुमति जिला प्रशासन द्वारा दी जा चुकी है।

शहर के प्रमुख बाजार में स्थित रंगेश्वर महादेव मंदिर के निकट स्थापित शनिदेव मंदिर की काफी मान्यता रही है। आम दिनों में इस मंदिर में भक्तों की काफी भीड़ भगवान शनिदेव की पूजा अर्चना करती दिखाई देती थी लेकिन कोविड-19 के लाॅकडाउन में इस मंदिर को टीन आदि लगाकर बंद कर दिया गया। क्योंकि उस समय सरकार की गाइडलाइन के अनुसार सभी मंदिर भक्तों के लिए बंद कर दिए गए थे। अब जब सरकार ने देश भर के लगभग सभी मंदिरों सहित मथुरा के भी प्रसिद्ध मंदिर भक्तों के लिए खोल दिए हैं तो फिर इस मन्दिर में स्थित शनिदेव महाराज को आज तक क्वारंटीन से मुक्त क्यों नहीं किया जा रहा है। प्रदेश सरकार ने अब शनिवार और रविवार को लॉक डाउन से मुक्त कर दिया है। तो आस्था के प्रतीक शनि महाराज की पूजा से आम लोगों को क्यों वंचित रखा जा रहा है। जब इस संबंध में कुछ लोगों से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मन्दिर प्रशासन द्वारा बंद कराया गया है। हम लोग शनिवार को शनिदेव की पूजा पाठ एवं भोग प्रसाद के लिए आते हैं लेकिन कुछ लोग मंदिर पर अपना अधिकार दिखाकर पूजा करने से मना कर देते है। लॉक डाउन के दौरान सभी मंदिरों में नित्य पूजा पाठ की अनुमति रही है लेकिन इस मंदिर पर किसी व्यक्ति को शनिदेव की पूजा करते नहीं देखा गया। भक्तों में इस बात की उत्सुकता है कि मंदिर कब खुलता है और वह अपने ईष्टदेव भगवान शनिदेव की पूजा अर्चना कर पाते हैं। वर्तमान में जनपद के मुख्य मंदिर ठा, द्वारिकाधीश मंदिर, श्रीकृष्ण जन्मस्थान, प्रेम मंदिर, कोसीकलां कोकिलावन स्थित प्रसिद्ध शनिदेव मंदिर, बलदेव के दाऊजी मंदिर, बरसाना का लाड़िली मंदिर, रंगीली महल सहित अन्य प्रमुख मंदिर खुले हुए हैं।