चाणक्य युवा संगठन ने की अखिलेश को शहीद का दर्जा देने की मांग

0
63

मथुरा। चाणक्य युवा संगठन ने केरल के कोझिकोड एयरपोर्ट में हुए प्लेन हादसे में मृत को पायलट अखिलेश शर्मा को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग की है। आयोजित बैठक में संगठन ने अपनी अन्य मांगों को पूरा करने के लिए केंद्र एवं उप्र सरकार से मांग की है। इस दौरान को पायलट को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की गई।
चाणक्य युवा संगठन के संस्थाक एवं राष्ट्रीय संयोजक अशोक शर्मा ने बताया कि एयर इंडिया के को पायलट अखिलेश शर्मा वंदे भारत मिशन के अंतर्गत विदेश में कोरोना के संकट से जूझ रहे भारतवासियों को भारत लाने में जुटे थे। 7 अगस्त को उनका प्लेन क्रैश हो गया। इसमें मथुरा के गोविंदनगर निवासी तुलसीराम शर्मा के पुत्र अखिलेश शर्मा शहीद हो गए। चाणक्य युवा संगठन को पायलट को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग करता है। कहा कि अखिलेश शर्मा चाहते तो पैराशूट से कूदकर अपनी जान बचा सकते थे लेकिन उन्होंने अपनी जान की बाजी लगाकर तथा प्राण न्यौछावर कर 171 लोगों की जान बचाई। कहा कि मथुरा के बेटे ने देश के लिए शहादत दी लेकिन सत्तारूढ़ पार्टी के लोग सोये हुए हैं। जनपद के ही जनप्रतिनिधि 3 दिन तक शहीद के परिजनों से मिलने तक नहीं आए। 10 अगस्त को उप्र उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा भी मथुरा में होने के बाद भी शहीद के परिजनों को सांत्वना देने के लिए नहीं पहुंचे। यह निश्चित रूप से दुर्भाग्यपूर्ण है। चाणक्य युवा संगठन यह मांग करता है कि वीर सपूत को शहीद का दर्जा दिया जाए। साथ ही शहीदों को मिलने वाले सभी लाभ प्रदान किए जाएं। शहीद अखिलेश कुमार की उच्च शिक्षित गर्भवती पत्नी मेघा शुक्ला को मथुरा में ही प्रथम श्रेणी की नौकरी प्रदान की जाये। उच्च स्तरीय निशुल्क मेडिकल सुविधा उपलब्ध कराई जाए। स्व. अखिलेश शर्मा के माता-पिता के भरण पोषण एवं भाई की पढ़ाई आदि का खर्च सरकार वहन करे। घर बनाने के लिए आईसीआईसीआई बैंक से लिया गया लगभग 28 लाख का ऋण माफ किया जाए। अखिलेश शर्मा की इच्छानुसार उनके छोटे भाई को पायलट बनने का प्रशिक्षण प्रदान किया जाए। बताया कि उनका संगठन अखिलेश शर्मा की पत्नी की डिलीवरी का पूरा खर्च वहन करेगा।