छात्र के अपहरण-हत्या में कथित पत्रकार भाई सहित गिरफ्तार

0
805
गोले में आरोपी कथित पत्रकार विनीत उपाध्याय

मथुरा। थाना फरह क्षेत्र में 16 वर्षीय छात्र की अपहरण कर हत्या एवं सबूत नष्ट किये जाने के मामले में पुलिस ने कथित पत्रकार और उसके भाई को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। जबकि इससे पूर्व पिता को भी गिरफ्तार किया जा चुका है।

मृतक छात्र रोहित उपाध्याय (फाइल फोटो)

अब तक थाने-चौकी से लेकर जिला मुख्यालय तक कुकुरमुत्तों की तरह मडराने वाले तथा-कथित पत्रकारों के थाने-चौकी, सरकारी कार्यालयों में दलाली, राशन विक्रेताओं से चौथ वसूली, ब्लैकमेलिंग करने के काले कारनामे आये दिन सामने आते रहे हैं। लेकिन इस बार थाना फरह क्षेत्र में हाईस्कूल के छात्र का अपहरण कर हत्या करने एवं सबूत नष्ट करने के आरोप में पुलिस ने तथा-कथित पत्रकार विनीत उपाध्याय उसके भाई रोहित उपाध्याय निवासी करनपुर थाना फरह को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। बताया जाता है गांव करनपुर निवासी हाईस्कूल का छात्र रोहित पुत्र हरिओम 15 जुलाई को अपना हाई स्कूल का परीक्षाफल देखने के लिये घर से निकला था, लेकिन उसके बाद घर नहीं लौट सका। जिसपर 17 जुलाई को थाना फरह में गुमशुदगी दर्ज कराई गई। परिजन रोहित को खोजने में जुटे थे कि 30 जुलाई को हिन्दुस्तान काॅलेज के पीछे पेड़ पर छात्र रोहित का शव लटका मिला। जिसके बाद मृतक के पिता हरिओम उपाध्याय पुत्र प्रभु दयाल ने कमलेश पुत्र भोगी राम उर्फ मौजीराम, उसके दो पुत्र विनीत एवं रोहित सहित चार लोगों के खिलाफ अपहरण, हत्या एवं सबूत नष्ट करने के आरोप में नामजद मुकद्मा कराया गया।

सूत्र बताते हैं कि मृतक छात्र के परिजनों का आरोपी पक्ष से जमीन को लेकर रंजीश चली आ रही थी जिसमें कुछ दिन पूर्व नामजदों से क्रिकेट के दौरान झगड़ा हुआ था। जिसके बाद उसका अपहरण कर हत्या कर दी गई। अपहरण एवं हत्या में नामजद कथित पत्रकार विनीत उपाध्याय का थाना पुलिस से काफी घन्ष्ठि सम्बन्ध होने के कारण पुलिस द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई। बताते हैं कि कथित पत्रकार पुलिस के मीडिया सेल गुप में भी जुड़ा हुआ था, बल्कि अवैद्य कार्यों में पुलिस की मुखबरी भी करता था। अपहरण-हत्या के मामले में हालांकि एसएसपी डाॅ. गौरव ग्रोवर ने सख्त रवैया अपनाते हुए फरह इंस्पैक्टर को लाइन हाजिर एवं विवेचक को निलम्बित कर दिया। लेकिन इस घटना के खुलासे के बाद तथा-कथित पत्रकारों एवं पुलिस के गठजोड़ का कारनामा एक बार फिर चर्चा का विषय बना गया है।