मुजफ्फरनगर में कबाड़ी सहित 5 फर्जी पत्रकार गिरफ्तार, बाइक-प्रेस कार्ड बरामद

0
771

मथुरा। कोराना लाॅक डाउन तथाकथित पत्रकारों के लिये किस तरह वरदान साबित हो रहा है। इसका खुलासा लाॅकडाउन में घूमने के नाम पर 260 से अधिक लोगों के फर्जी प्रेस कार्ड बनाने एवं बदले में 2100 रुपये प्रति कार्ड वसूलने वाले 5 फर्जी पत्रकारों का खुलासा उनकी गिरफ्तारी से हुआ है। जबकि एक कथित संपादक का रिपोर्ट में नामजद किया गया है।

कोरोना वायरस लाॅकडाउन के मध्य जहां सभी कारोबार ठप्प और आम जनजीवन अस्त-व्यस्त है वहीं दूसरी तरफ तथाकथित पत्रकार काले कारनामों को अंजाम दे रहे हैं। जिसमें लाॅकडाउन में घूमने के नाम पर कथित पत्रकारों ने 260 से अधिक लोगों को 2100-2100 रुपये लेकर प्रेस कार्ड तक जारी कर दिये ।इसका खुलासा उस समय हुआ जब एक सलमान नामक कबाड़े का कारोबार करने वाले युवक को थाना सिविल लाइस पुलिस ने प्रेसकार्ड के साथ गुरूवार को हिरासत में लिया। जिसके कब्जे से दिल्ली क्राइम एण्ड भ्रष्टाचार विरोधी मोर्चा के नाम से आई कार्ड बरामद किया गया। पुलिस पूछताछ में युवक कक्षा तीन पास निकला और उसने 2100 रुपये मे लाॅकडाउन के दोरान घूमने के लिये प्रेस कार्ड बनवाने का खुलासा किया। एसएसपी अभिषेक यादव के अनुसार जांच के दौरान गांधी नगर निवासी सत्येन्द्र सैनी द्वारा इक्कीस सौ रुपये लेकर कार्ड बनाकर दिया गया था। जिसे हिरासत में लेने के बाद उसने चन्द्रभान निवासी जट मुझेड़ा,सुरेंद्र निवासी गांधी नगर ,प्रवेश कुमार निवासी अमित बिहार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।जिनके कब्जे से तीन प्रेस कार्ड,एक बाइक,प्रेस का लोगो भी बरामद किया गया है।

पुलिस के अनुसार दिल्ली क्राइम एण्ड भ्रष्टाचार विरोधी मोर्चा के संपादक प्रेम नारायण निवासी मोती नगर मथुरा को भी मुकदमे में नामजद किया गया है। बताते हैं कि गिरोह के सदस्यों ने रिक्शा चालक,मेकेनिक सहित तमाम मजदूर किस्म के लोगों के भी प्रेस कार्ड जारी कर दिये गए थे,पुलिस की इस कार्यवाही से फर्जी प्रेस कार्ड बनवाने लोगों में हड़कम्प मचा हुआ है। वहीं कुकरमुत्तों की तरह गांव से लेकर शहर तक फैले फर्जी पत्रकारों में हड़कम्प मचा हुआ है।