शराब को लेकर दो गुटों में हुई जमकर फायरिंग, बालिका घायल

0
880

मथुरा/बाजना। लाॅकडाउन के दौरान सरकार द्वारा शराब ठेके खोले जाने के बाद अपराधिक वारदातें थमने का नाम नहीं ले रही हैं। पुलिस और शराबी युवक की मारपीट में युवक के मां की जान जाने से अभी नौहझील पुलिस उबर भी नहीं पाई थी कि इसी थाना क्षेत्र के गांव सिद्दीकपुर में शराब को लेकर दो गुटों में हुई ताबड़तोड़ फायरिंग में 8 वर्षीय बालिका गंभीर रूप से घायल हो गई। जिसे उपचार के लिये अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

कोरोना वायरस के चलते पूरे देश में लाॅकडाउन के चलते खोले गये शराब के ठेके जनता के लिये अभिषाप साबित हो रहे हैं। शुक्रवार को कस्बा नौहझील में शराबी युवक और पुलिस के बीच हुई जमकर मारपीट में हुई धक्का-मुक्की के कारण युवक की मां गीता देवी की मौत का मामला अभी शांत भी नहीं हो पाया था कि शुक्रवार की देर शाम गांव सिद्दीकपुर में शराब पीने को लेकर दो गुट आमने-सामने आ गये। जिसमें केपी पुत्र अतर सिंह प्रवीण पुत्र उदल, अमित पुत्र मेम्बर सिंह, विनोद व धर्मेन्द्र पुत्रगण शिवराज सिंह रणवीर पुत्र शिवराज सिंह, कुंवर सैन पुत्र शिवराज सिंह, सोनू पुत्र श्यामवीर सिंह आदि के मध्य जमकर मारपीट हो गई। गांव के लोगों ने दोनों पक्षों को अलग-थलग कर दिया लेकिन शनिवार की सुबह दोनो पक्ष फिर आमने-सामने आ गये और दोनों ओर से जमकर फायरिंग शुरू हो गई। जिसमें घर के बाहर आई योगेन्द्र सिंह की आठ वर्षीय वेबो गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गईं जिसे उपचार के लिये अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। बाजना चौकी प्रभारी नीटू सिंह ने बताया इस मामले में अभी तक कोई भी लिखित तहरीर नही आयीं। समाचार लिखे जाने तक घटना की रिपोर्ट दर्ज नहीं हो सकी है। जबकि दोनों पक्षों के बीच समझौते की प्रक्रिया चल रही थी। उधर दूसरी तरफ नौहझील कस्बे में गीता देवी की मौत को लेकर ग्रामीणों का आक्रोश थमता नजर नहीं आ रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि उच्च अधिकारियों द्वारा दोषी पुलिस कर्मियों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज का आश्वासन दिये जाने के बावजूद भी कार्यवाही नहीं की गई है।