पालघर के बाद अब बुलंदशहर में 2 साधुओं की हत्या, आरोपी बोला- सब भगवान की इच्छा से हुआ

0
768

बुलंदशहर : महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं की मॉब लिंचिंग के बाद अब उत्तर प्रदेश में साधुओं की हत्या की वारदात सामने आई है. बुलंदशहर के अनूपशहर कोतवाली में दो साधुओं की हत्या कर दी गई. मंदिर परिसर में सो रहे दो साधुओं पर धारदार हथियार से वार किया गया है. भीड़ ने आरोपी को पकड़कर पुलिस को सौंप दिया है.

जानकारी के अनुसार, अनूपशहर के पगोन गांव स्थित शिव मंदिर परिसर में मंगलवार सुबह खून से लथपथ पड़े दो साधुओं के शव मिले। मृतक का नाम जागिन दास व शेर सिंह सेवादार है। इनकी देर रात धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या कर दी गई। पुलिस का कहना है कि हत्या तलवार से की गई है। दोनों साधुओं की उम्र लगभग 50 साल और ये पिछले 15 साल से मंदिर में रह रहे थे। पुलिस ने शक के आधार पर गांव के एक युवक को हिरासत में लिया है. युवक अपराधी किस्म का बताया जा रहा है. युवक और साधुओं के बीच कल किसी बात को लेकर कहासुनी हुई थी.

घटना के बाद बुलंदशहर एसएसपी समेत पुलिस के तमाम आला अधिकारी मौके पर पहुंचे और घटना की बारीकी से जांच की. पुलिस की प्रथम जांच में इस हत्या में गांव के ही नशेड़ी युवक मुरारी का नाम सामने आया है.

बुलंदशहर पुलिस का दावा है कि हिरासत में लिया गया मुरारी, लंबे समय से भांग का नशा करता है. आरोपी पर दो दिन पहले बाबा का चिमटा चुराने का भी आरोप लगा था. आरोप है कि इसी बात को लेकर मृतक साधुओं और आरोपी मुरारी के बीच कहासुनी हो गई थी, जिसमें आरोपी मुरारी ने दोनों साधुओं को अंजाम भुगत लेने की धमकी दी थी.

पुलिस अधिकारियों का दावा है कि आरोपी पुलिस हिरासत में है और आरोपी अभी भी नशे की हालत में है. फिलहाल दोनों संतों के शवों का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है, जबकि घटना स्थल की फॉरेन्सिक जांच भी कराई जा चुकी है.

इस मामले में एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने कहा, ‘दो बाबा एक मंदिर में रहते थे. मुरारी नाम का एक शख्स इस मंदिर में आया-जाया करता था. मुरारी भांग का नशा करता था. 3-4 दिनों पहले मुरारी ने बाबा का चिमटा गायब कर दिया था. उसके बाद बाबा ने उसे डांटा था.  मुरारी गांव से 2 किलोमीटर दूर मिला. आरोपी ने पूछताछ में हत्या की बात कबूली है, आरोपी ने कहा कि जो भी हुआ ये भगवान की इच्छा थी। संतो के डंडे से ही पीटकर उनकी निर्मम हत्या की ।

पालघर में दो साधुओं की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी
बीते 17 अप्रैल को महाराष्ट्र के पालघर में दो साधु और एक ड्राइवर की करीब 200 लोगों की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। बताया जाता है कि भीड़ ने इको वैन में बैठे दोनों साधु और उनके ड्राइवर को चोर समझ लिया था और फिर उनकी पीट-पीटकर बेरहमी से हत्या कर दी।