कोरोना: काम से बेरोजगार मजदूर, जुआ में दांव पर लगा दी जिंदगी…

0
671

एक तरफ कोरोना वायरस के कारण पूरा विश्व संकट के दौर से गुजर रहा है तो वहीं दूसरी तरफ भारत सरकार कोरोना संकट से उबरने के लिये 21 दिन का लाॅक डाउन घोषित कर 135 करोड़ की जनता को घरों में कैद रहने के फरमान से ट्रैन, बस, फैक्ट्री, कारखाने, व्यापार बन्द होने से बेगार हुए मजदूर जुआ खेल कर जहां अपने को बर्बाद कर रहे हैं बल्कि अपनी जिन्दगी से भी हाथ धोते नजर आ रहे हैं। इसका नजारा उ.प्र. के मथुरा जनपद के थाना रिफायनरी के गांव कच्चा कोयला अलीपुर में मंगलवार 31 मार्च को देखने को मिला जहां एक दर्जन से अधिक मजदूर जुआ खेल रहे थे तभी मौके पर पहुंची पुलिस को देखकर भाग खड़े हुए बल्कि कई मजदूर निकट के तालाब में भी कूद गये जिनमें से कुछ पुलिस के हाथ आ गये तो कुछ बचकर भाग निकले। लेकिन 42 वर्षीय मजदूर जगनी पुत्र रामजीलाल जाटव तालाब के दल-दल में फंस गया वह बचाओ-बचाओ की आवाज लगाने लगा लेकिन पुलिस के खौफ से कोई ग्रामीण बचाने नहीं आया और कोई पुलिस कर्मी भी अपनी जिन्दगी दांव पर लगाकर तालाब में कूदने को भी तैयार नहीं हुआ जिससे मजदूर जगनी ने दम तोड़ दिया।

मजदूर की मौत होते ही जहां परिवार में हाहाकार मच गया वहीं उ.प्र. पुलिस की जान भी सांसत में फंस गई, पूरा गांव पुलिस छावनी में तबदील हो गया जैसे-तैसे पुलिस ने मजदूर का शव पोस्टमार्टम को भेजकर अन्तिम संस्कार कराया, इस मामले में पुलिस मजदूर की मौत जुए की भगदड़ से होने से मना कर रही है। सीओ रिफायनरी वरूण कुमार का कहना है कि मृतक मजदूर जगनी खेत पर मजदूरी करने जा रहा था तालाब में पैर फिसलने के कारण डूबने से मौत हुई है, जबकि मृतक के परिजन भी आकस्मिक होना बता रहे हैं।