कोरोना : शराब माफियाओं की बल्ले-बल्ले, कथित पत्रकार हुआ गिरफ्तार

0
1655

मथुरा। कोरोना वायरस के संकट से जूझती जनता को जिला प्रशासन राशन सहित अन्य आवश्यक वस्तुओं की होम डिलीवरी की व्यवस्था अभी तक करने में नाकाम साबित हो रहा हो लेकिन शराब माफिया एवं कथित पत्रकारों का गठजोड् जनपद में शराब ठेके बन्द होने का फायदा उठाते हुए घर-घर शराब की आपूर्ति दो से तीन गुणा रेट पर करने में सफल साबित हो रहा है। जिसके कारण शराब पीकर हुड्दंग करने एवं पुलिस से अभ्रदता करने पर एक कथित पत्रकार की पिटाई करते हुए हवालात की हवा खिलाने के बाद जमानत पर रिहा कर दिया गया।
पूरे विश्व के साथ भारत में कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिये केन्द्र सरकार द्वारा 21 दिन का लाॅकडाउन घोषित करने के बाद घरों में कैद जनता को जिला प्रशासन द्वारा राशन सहित अन्य आवश्यक वस्तुओं की होम डिलीवरी उपलब्ध कराने का ऐलान भले ही किया जा रहा हो लेकिन उसे साकार करने में विफल साबित नजर आ रहा है। वहीं दूसरी तरफ लाॅकडाउन के चलते शराब माफिया, शराब ठेकेदार संचालक एवं कथित पत्रकारों का गठजोड़ शराब शौकीनों को मंहगी कीमत पर घर-घर शराब की बिक्री को अंजाम दे रहा है। सूत्र बताते हैं कि 8 पीएम शराब कम्पनी की फ्रूटी नामक 200 एमएल का पाउच जिसकी ठेका मूल्य 100 रुपये करीब है उसे दो सौ रुपये तक ब्लैक में बेचा जा रहा है। जबकि अंगे्रजी शराब की बोतलों को दो से तीन गुणा कीमत पर बेचा जा रहा है।
बताया जाता है कि ईंट-भट्टों पर कार्यरत मजदूरों को भी देशी शराब कई गुणा रेटों पर शराब माफिया उपलब्ध करा रहे हैं। जिससे जगह-जगह शराब माफियाओं के आतंक से जनता परेशान है। बताते हैं कि मंगलवार की रात्रि थाना नौहझील क्षेत्र के कस्बा बाजना के बृज नगर निवासी कमल सिंह सविता के यहां बहिन सुनीता एवं बहनोई राजपाल सिंह 30 मार्च को गाजियाबाद से रहने के लिये आये थे। जिसपर कोरोना वायरस के नाम पर आसामाजिक तत्वों ने हंगामा करना शुरु कर दिया। इस पर 31 मार्च को नौहझील प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर स्वास्थ्य परीक्षण कराने पर कोरोना वायरस के कोई लक्षण नहीं पाये गये। लेकिन मंगलवार की रात्रि करीब 10 बजे पड़ोस में रहने वाले कथित पत्रकार ने शराब पीकर पुनः हंगामा करना शुरु कर दिया। इसकी सूचना पुलिस को दिये जाने पर बाजना पुलिस चैकी को दिये जाने पर पुलिस मौके पर पहुंच गई। जिसने कथित पत्रकार को समझाने का प्रयास किया तो शराब के नशे में धुत कथित पत्रकार ने पुलिस से भी अभद्रता एवं गाली गलौज कर दी। जिसे पुलिस ने थाना नौहझील लाकर मजामत करते हुए हवालात में डाल दिया। जिसे बाद में थाने से जमानत पर रिहा कर दिया।
सूत्र बताते हैं कि उक्त कथित पत्रकार शराब कारोबार से जुड्ा हुआ है। जिसका एक वीडियो 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर शराब बिक्री करते हुए वायरल होने के बाद भी कोई कार्यवाही ना होने पर उसके हौसलें बुलन्द हो गये। जानकार सूत्रों का कहना है कि कस्बा बाजना, नौहझील, सुरीर, मांट, राया सहित शहरी क्षेत्र में भी लाॅकडाउन के बाद धड़ल्ले से उंची कीमतों पर शराब बेची जा रही है। जिसमें पुलिस-प्रशासन की संलिप्तता बताई जा रही है। जिसमें शराब के शौकीन पुलिस-प्रशासन के अधिकारी भी शराब माफियाओं एवं कथित पत्रकारों के गठजोड़ से अपना शौक पूरा कर रहे हैं। जबकि आम जनता राशन सहित अन्य आवश्यक वस्तुओं के संकट का सामना कर रही है।