कोरोना: तो क्या हवा-हवाई है सांसद-विधायकों की घोषणा

0
1046

मथुरा। कोरोना वायरस से जूझ रहे पूरे विश्व के साथ मथुरा की जनता को राहत देने के लिये सांसद, मंत्री, विधायक-विधान परिषद सदस्यों द्वारा निधि से दी जा रही अनुदान राशि नियम-कानून में उलझकर रह गई है। एक तरफ जहां जन प्रतिनिधि पत्र जारी कर रहे हैं वहीं दूसरी तरफ अफसरों ने नियम विरूद्ध बताते हुए निधि जारी करने से हाथ खड़े करते हुए जबाबी पत्र भी लिख दिये हैं। मामला मुख्यमंत्री तक पहुंच गया है।

कोरोना वायरस की महामारी के बीच जनता को राहत देने एवं बीमारी से बचाव के लिये बल्देव क्षेत्र के भाजपा विधायक पूरन प्रकाश द्वारा क्षेत्रीय जनता को मास्क, सेनेटाइजर अन्य उपकरण, दवा आदि के लिये 10 लाख की राशि तथा गोवर्धन क्षेत्र के विधायक ठा. करिन्दा सिंह ने 4 लाख की राशि तत्काल प्रभाव से जारी करने के पत्र जिला प्रशासन को लिखे हैं। मथुरा भाजपा सांसद हेमामलिनी एवं ऊर्जा मंत्री एवं मथुरा-वृन्दावन विधायक श्रीकान्त शर्मा द्वारा 1-1 करोड़, सपा के विधान परिषद सदस्य डाॅ. संजय लाठर द्वारा भी 10 लाख रुपये की राशि देने की घोषणा की खबरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं हालांकि विधायक पूरन प्रकाश, कारिन्दा सिंह के अलावा अन्य की अभी पुष्टी नहीं हो सकी है। वहीं दूसरी तरफ जिलाग्राम्य विकास अभिकरण के परियोजना निदेशक ने हाथ खड़े करते हुए विधायक पूरन प्रकाश को पत्रांक संख्या 2620/वि.वि/2019-20 एवं ठा. करिन्दा सिंह को पंत्राक संख्या 2619 के माध्यम से अवगत कराते हुए कहा है कि विधायक निधि से मास्क एवं सेनेटाइजर के लिये नियमानुशार कोई धन राशि जारी नहीं की जा सकती है।

इस सम्बंध में बल्देव क्षेत्र के भाजपा विधायक पूरन प्रकाश ने ‘‘विषबाण’’ से बातचीत में कहा कि उन्हें अभी कोई पत्र प्राप्त नहीं हुआ है। श्री प्रकाश ने कहा कि 25 लाख तक की राशि स्वास्थ सेवाओं पर निधि से खर्च करने का प्रावधान है। जिसके आधार पर विधायक निधि में बची शेष 10 लाख की राशि का पत्र लिखा गया था। उन्होंने कहा कि प्रशासन विधायक निधि की राशि को मनमानी तरीके से नहीं रोक सकता है। उन्होंने कहा कि ये मामला मुख्यमंत्री के संज्ञान में भी लाया गया है और जनता को हर कीमत पर 10 लाख की राशि मुहैया कराई जायेगी। साथ ही मुख्यमंत्री राहतकोष से भी अलग से राशि दिलाई जायेगी। गोवर्धन के विधायक ठा. करिन्दा सिंह से भी सम्पर्क किया गया लेकिन सम्पर्क नहीं हो सका।

मांट क्षेत्र के विधायक एवं पूर्व उच्च शिक्षामंत्री श्याम सुन्दर शर्मा ने ‘‘विषबाण’’ से बातचीत में कहा कि विधायक निधि अस्पताल निर्माण एक्सरे मशीन आदि पर तो खर्च की जा सकती है। लेकिन मास्क, सेनेटाइजर खरीदने का निधि से कोई प्रावधान नहीं है। अगर कोई प्रावधान होता है तो वह सबसे पहले जनता के लिये विधायक निधि जारी करते। श्री शर्मा ने इसे नियम विरूद्ध बताते हुए कहा कि ये सस्ती लोक प्रियता हासिल करने का प्रयास है। जिससे राजनैतिक नेताओं को बचना चाहिये। कोरोना वायरस के नाम पर जनता को राहत मिल पायेगी या नहीं ये तो भविष्य के गर्भ में है। लेकिन जन प्रतिनिधियों की प्रतिष्ठा जरूर दांव पर लग गई है। क्या वह जनता को राहत दिला पायेंगे या फिर ये लोकप्रियता पाने का ही हथकण्डा अपनाया जा रहा है। इस संबंध में हेमामालिनी एवं ऊर्जा मंत्री श्रीकान्त शर्मा से सम्पर्क स्थापित नहंी हो सका।