पीनाज त्यागी: पत्रकारिता की डगर पर मेहनत से पाया मुकाम

0
293
peenaz tyagi

पत्रकारिता का क्षेत्र बहुत व्यापक है। खबरों के साथ यहाँ देश का मूड़ और मिजाज भी बदलता रहता है । इस बदलते समय में राजनीति और समाज को उसका आईना दिखाने वाली खबरों को दमदार और सवेंदनशीलता से प्रस्तुत करते कुछ चेहरे हमारे खास हो जाते हैं । ये चेहरे यूँ ही नहीं इस मुकाम तक पहुॅचते । वर्षों की मेहनत, लगन और संघर्ष इन्हें खास बनाते हैं । ऐसे ही एक महिला पत्रकार से आज आपकी मुलाकात कराते हैं ।
संघर्ष, लगन और मेहनत आपको जो अनुभव देते हैं वही आपका मुकाम तय करते हैं । ये तीन कसोटी हैं जिनसे ‘निष्पक्ष-निडर और निर्भीक’ जैसे गुण मिलते हैं । इन्ही तीनों गुणों से परिपूर्ण हैं पीनाज त्यागी। पीनाज एक न्यूज एंकर एवं संपादक हैं। पत्रकारिता के क्षेत्र में 16 वर्षों से अधिक का अनुभव रखने वाली पीनाज ने कई बड़े न्यूज चैनलों में न्यूज एंकर बतोर अपनी सेवाएं तो दी है, साथ ही साथ उन्होंने संपादक के रूप में चैनलों के निर्माण में भी अहम भूमिका निभाई है। अपने पत्रकारिता के क्षेत्र में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित अनेकों राजनेताओं के बहुचर्चित साक्षात्कार लिए है। मौजूदा समय में वह ‘न्यूज नेशन’ चैनल में कार्य कर रही हैं । वह न्यूज नेशन के चर्चित शो ‘खबर कट टू कट’ की होस्ट एंकर है।
पीनाज का जन्म 23 दिसंबर, 1983 को दिल्ली के एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ। परिवार में एक बहन हैं, माताजी अध्यापिका और पिताजी वकील हैं । उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली में ग्रहण की। परिवार का पत्रकारिता से कोई वास्ता नहीं था । माँ चाहती थीं कि पीनाज टीचर बने लेकिन उनकी रूचि एक पत्रकार बनने में थी । परिवार को भरोसे में लेकर उन्होने पत्रकारिता में 3 साल की डिग्री हासिल की फिर डिजास्टर मैनजमेंट में एमबीए किया । एक अखबार में इंटर्नशिप के साथ वे पत्रकारिता से रूबरू हुईं।
बुलंद हौसलो के साथ उन्होंने अपने कैरियर की शुरूआत एक ट्रेनी के रूप में समाचार के लिए बुलेटिन लिखने से की। वह जी ग्रुप के ‘फॉलो-अप’ पर नियमित फीड और समाचार के लिए हाल के दिनों में महत्वपूर्ण घटनाओं को देखती थीं। वह मुंबई में ब्यूरो के सभी फीचर शो के लिए दिल्ली में अलग-अलग कहानियों के लिए समन्वय और साक्षात्कार आयोजित करने में सहायता करती थीं। शुरू से ही बेबाकी से अपनी बात रखने और लेखनी कला के बलबुते पीनाज ने कुछ ही समय में इस क्षेत्र में अपनी पहचान बना ली ।
पीनाज त्यागी को अपनी मेहनत का फल मिला और वह एक संवाददाता और एंकर के रूप में ‘जी बिजनेस’ में शामिल हुईं। उन्होंने सुबह के शो ‘गुड मॉर्निंग इंडिया’ की मेजबानी की और सक्रिय रूप से विभिन्न बुलेटिन और लाइव स्टॉक मार्केट शो जैसे कि ‘आपा बाजार’ और ‘शेयर बाजार लाइव’ की मेजबानी की। यहां से उनके कैरियर ने रफ्तार पकड़ी और वहीं अगस्त 2003 में उसी प्रोफाइल में जी न्यूज लिमिटेड में शामिल हो गईं । वह कुछ क्षेत्रों के लिए शाम के प्राइम टाइम स्लॉट में एक नियमित एंकर बन गयीं। वह खबरों के लिए आउटडोर कवरेज एवं स्पोर्ट्स बुलेटिन भी संभालती थीं। पीनाज ने 2004 के लोकसभा चुनावों के दौरान इलेक्शन डेस्क को भी संभाला । इसमें उनको समाचार बुलेटिनों के लिए दैनिक रिपोर्टिंग को कवर करने की जिम्मेदारी दी गयी।
3 साल ‘जी न्यूज’ के साथ के अपने सफर को अलविदा कहते हुए उन्होंने वर्ष 2006 में आजतक के लिए काम करना शुरू कर दिया। उन्होंने 26/11, अन्ना आंदोलन, दिल्ली/मुंबई ब्लास्ट, विश्व कप और सीडब्ल्यूजी जैसी प्रमुख घटनाओं के दौरान शानदार रिपोर्टिंग की। उन्होंने साप्ताहिक शो जैसे नेताजी मोहल्ले में (एमसीडी इलेक्शन), इम्तेहान से केरियर तक, ढकीले की दाउद, खेल-खेल में आदि कार्यक्रमों का निर्माण किया और रिपोर्टिंग की।
7 साल तक आजतक में कार्य करने के बाद वह अपने अनुभवों के साथ अक्टूबर 2013 में ‘न्यूज नेशन’ में शामिल हुईं । पिछले 6 सालों से वह न्यूज नेशन में संपादकीय योजना और निष्पादन, चैनल की समग्र ब्रांडिंग, संसाधन प्रबंधन और भविष्य की योजना और विचार जैसे विभिन्न महत्वपूर्ण स्तरों पर योगदान दे रही हंै।
पीनाज ने कई बड़े राजनैतिज्ञों का साक्षात्कार तो लिया ही हैं, साथ ही साथ चुनौतिपूर्ण ग्राउंड रिपोर्टिंग को भी भलि भांति पूर्ण किया है। पीनाज ने ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका में पीएम मोदी को ट्रैक करने से लेकर, थाई गुफा में फंसे बच्चों की न्यूज को कवर करने जैसे कई चुनौती भरे कार्यक्रम किए हैं। द हिंदुस्तान टाइम्स, जी न्यूज और आजतक में एक रिपोर्टर के रूप में अपने कार्यकाल में उन्होंने ना केवल राजनेताओं और राजनयिकों का साक्षात्कार लिया है, बल्कि एक पत्रकार के रूप में रक्षा विशेषज्ञ के लिए एक उपमहाद्वीप में महासागरों की गहराई का भी पता लगाया है।
आगे बढ़ने के लिए रास्तों की नहीं कदमों की जरूरत होती है और कदम जब बढ़ते हैं तो वह अपने लक्ष्य तक पहुंच ही जाते हैं। पीनाज कहती हैं कि आगे बढ़ने के लिये तमाम परम्परावादी बंदिशें तोड़नी पड़ती हैं । इनके लिये आपको आलोचना भी मिलती है लेकिन अगर आपका लक्ष्य तय है और मेहनत में यकीन है तो यही आलोचना प्रशंषा में बदल जाती है । आज पीनाज त्यागी न्यूज एंकरों में जाना पहचाना चेहरा है । उनकी आवाज और खबरों की तह तक जाकर प्रस्तुतिकरण ये बताने के लिए काफी है की वे क्या हैं।