मजदूर पर 4.32 लाख के जुर्माने से उठा तूफान, होगा जन आन्दोलन

0
537

मथुरा। नगर निगम के अफसरों द्वारा अतिक्रमण के नाम पर पौधे बेचने वाले मजदूर पर 4.32 लाख का जुर्माना लगाये जाने पर रालोद, कांग्रेश सहित अन्य सामाजिक संगठनों द्वारा कड़ी निंदा करते हुए आन्दोलन का ऐलान किया है।

डाॅ. असोक अग्रवाल

नगर निगम के अफसरों द्वारा गत दिवस अतिक्रमण के नाम पर बीएसए काॅलेज की बाउन्ड्रीबाल के सहारे पौधे बेचने वाले मजदूर रघुवीर सिंह कुशवाह पर 4.32 लाख का जुर्माना लगाते हुए नोटिस थमा दिया। इसका खुलासा ‘‘विषबाण’’ द्वारा किये जाने के बाद मजदूर के समर्थन में राजनैतिक एवं सामाजिक संगठनों ने निगम अफसरों के खिलाफ आवाज उठाना  शुरू कर दिया है। रालेाद के वरिष्ट नेता डाॅ. असोक अग्रवाल ने नगर निगम की कार्यवाही को हिटलरशाही बताते हुए कहा कि एक तरफ पक्के अतिक्रमणों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है वहीं दूसरी तरफ सड़क किनारे मजदूरी कर जीवन यापन करने वाले मजदूर पर 4.32 लाख का जुर्माना लगा दिया गया है। श्री अग्रवाल ने कहा कि अगर शासन-प्रशासन ने जुर्माना निरस्त नहीं किया तो रालोद नगर निगम के अफसरों का घेराव कर आन्दोलन करेंगे।

मुकेश धनगर
 अजय शर्मा
अजय शर्मा

उ.प्र. कांग्रेस कमैटी के सचिव मुकेश धनगर ने कहा कि अगर प्रशासन ने दो दिन के अन्दर मजदूर पर लगाया जुर्माना निरस्त नहीं किया तो कांग्रेश गरीब मजदूर के समर्थन पर सड़क पर आन्दोलन करेंगे।

आम आदमी पार्टी यूथ विंग के जिला संरक्षण अजय शर्मा ने कहा कि होलीगेट हो या नया बस स्टेण्ड प्रमुख मिष्ठान विक्रेता ने सड़क पर ही पार्किंग बना रखी है वहां आज तक कार्यवाही नहीं की गई। लेकिन

राजकुमार अग्रवाल मांट वाले

एक मजदूर पर इतना जुर्माना थोप दिया हे कि वह और उसका परिवार कभी नहीं चुका पायेगा। जिला प्रशासन पेड़ काटने वालों पर नहीं पेड़ बेचने वालों पर जुर्माना लगा रहा है उन्होंने कहा कि अगर प्रशासन ने अपने तानाशाही निर्णय को वापिस नहीं लिया तो आन्दोलन किया जायेगा। उ.प्र. उद्योग व्यापार मण्डल के प्रदेश उपाध्यक्ष राजकुमार अग्रवाल मांट वालों ने कहा कि नगर निगम द्वारा एक छोटे व्यापारी पर इतना जुर्माना लगाना शर्मनाक है। इसके लिये शहर अध्यक्ष की व्यापार मण्डल की इकाई निगम अधिकारियों से मुलाकात करेगी और लगाये गये जुर्माने को निरस्त करायेगी। अगर पीड़ित व्यापारी को न्याय नहीं मिला तो व्यापार मण्डल सड़क पर उतरने पर मजबूर होगा।

 

अनुपम गौतम
अनुपम गौतम

संस्कार भारती के जिला महामंत्री एवं सामाजिक कार्यकर्ता अनुपम गौतम का कहना है कि डींग गेट से लेकर भरतपुर गेट तक होलीगेट से चैक बाजार तक अवैध अतिक्रमण नजर नहंी आता है जहां कई घण्टों तक आदमी को जाम की समस्या से जूझना पड़ता है। लेकिन जिस पौधे वाले से कोई अवरोध उत्पन्न नहीं हो रहा उस पर रिकाॅर्ड जुर्माना लगाकर अफसरों ने तानाशाही का

मोहनस्वरुप भाटिया

परिचय दिया है। सारथी संस्था के कोषाध्यक्ष एवं युवा व्यापारी उमेश चन्द गर्ग का कहना है कि बाजार के व्यापारी को आॅनलाइन ने

उमेश चन्द गर्ग

बर्बाद कर रखा है और अब छोटे मजदूर वर्ग के व्यापारी को अधिकारी बर्बाद करने पर तुले हुए हैं। श्री गर्ग ने कहा अफसरों ने अगर अपनी कार्य प्रणाली में सुधार नहीं किया तो संस्था जल्द ही आन्दोलन करने पर मजबूर होगी। ज्ञानदीप शिक्षा भारती के सचिव एवं पद्मश्री मोहन स्वरूप भाटिया ने कहा कि एक मजदूर परिवार पर मनमानी तरीके से लगाया गया। जुर्माना सम्पूर्ण मानवता पर कलंक है। इस परिवार पर जो 4.32 लाख का जुर्माना नगर निगम के अफसरों को तत्काल निरस्त करना चाहिये।

 

भाजपा महानगर के अध्यक्ष चेतन स्वरूप पारासर का कहना है पूर्व में पौधे विक्रेता यातायात व्यवस्था में व्यवधान होने पर हटाया गया। लेकिन फिर उसने कब्जा कर लिया जो गलत है। उन्होंने कहा कि मजदूर परिवार पर 4.32 लाख का जुर्माना लगाना भी उचित नहीं कहा जा सकता। इस पर नगर निगम को गंभीरता से विचार करना चाहिये।