‘‘कार्यकर्ता के अपमान में भाजपाई मैदान में’’

0
964

मथुरा। ‘‘कार्यकर्ता के अपमान में भाजपायी मैदान में’’ जैसे नारे अब सोशल मीडिया में नेताओं के खिलाफ ही जोर-शोर से कार्यकर्ता उछाल रहे हैं। जबकि बड़े महारथी खामोश नजर आ रहे हैं।
पार्टी हाईकमान के तमाम निर्देशों के बाबजूद भी ना तो भाजपा कार्यकर्ताओं को प्रशासन सम्मान दे रहा है और ना ही पार्टी के नेता महत्व दे रहे हैं। पिछले दिनों अल्पसंख्यक मोर्चा के अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह होरा के साथ हुई मारपीट की घटना में नगर आयुक्त एवं संयुक्त नगर आयुक्त के अंगरक्षकों द्वारा हाथ तोड़े जाने एवं युवा मोर्चा नेता धीरज कुमार शर्मा की पत्नी लवली शर्मा की भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष डीपी गोयल के हॉस्पीटल में उपचार के दौरान मौत होने पर भाजयुमो नेता की शिकायत पर मुकद्मा दर्ज होने के बाद हॉस्पीटल की ओर से भी भाजयुमों नेता सहित उनके परिजनों के विरूद्ध मामला दर्ज कराने का मामला अभी जोर पकड़ ही रहा था कि कस्बा बाजना में किसान सम्मान समारोह भाजपा नौहझील मण्डल अध्यक्ष हरीश चौधरी के साथ अभद्रता किये जाने पर भाजपा जिलाध्यक्ष नागेन्द्र सिकरवार समर्थकों के साथ मंच छोड़कर चले गये थे।

भाजपा नेताओं के सम्मान पर खर्च कर दी 17.40 लाख की राशि

बाजना की घटना को लेकर भाजपाई सोशल मीडिया पर दो गुटों में बंटें नजर आ रहे हैं एक तरफ जहां कार्यकर्ताओं के सम्मान की खातिर नागेन्द्र सिकरवार के समर्थकों जिलाध्यक्ष वाही-वाही कर रहे हैं वहीं दूसरे गुट के समर्थक भी अपने बचाव में जुटे हुए हैं। इस घमासान में एक-दूसरे को कोई दल्ला बता रहा है तो कोई चापलूस-चमचे की उपाधि के शब्द बाण छोड़ रहे हैं। कार्यकर्ताओं के अपमान पर कार्यकर्ता आयोजकों के खिलाफ पार्टी हाईकमान से सख्त कार्यवाही की मांग कर रहे हैं। देखना होगा कि इस जंग पर पार्टी हाईकमान क्या कार्यवाही करता है या फिर पहले की तरह खामोशी ओढ़ने में ही पार्टी और सरकार की भलाई समझता है।