खुलेआम घूम रहा बलात्कारी अधिकारी, एसएसपी से लगाई पीड़िता ने गुहार

0
603

मथुरा। कस्बा फरह में कृषि विभाग के एक अधिकारी द्वारा अपनी ही मकान मालकिन के साथ दुराचार करने का मामला सामने आया है। आरोपी ने महिला को नशीली कोल्ड ड्रिंक पिलाकर दुराचार कर वीडियो बना ली। इसके बाद लगातार ब्लैकमेल कर दुष्कर्म करता रहा। अब उसने जब महिला की नाबालिग पुत्री के साथ भी बलात्कार करने का प्रयास किया तो महिला ने इसका विरोध किया। विरोध करने पर आरोपी ने महिला की बनाई गई वीडियो को वायरल कर दिया। अब मुकदमा दर्ज होने के बाद भी बलात्कारी अधिकारी खुलेआम घूम रहा है। पीड़िता ने एसएसपी से उसे गिरफ्तार किए जाने की गुहार लगाई है। महिला ने थाना फरह में मामला दर्ज कराया है। महिला ने पुलिस से आरोपी को शीघ्र गिरफ्तार करने की गुहार लगाई है।
महिला ने सोमवार को एसएसपी कार्यालय पर दिए गए शिकायती पत्र में बताया कि आरोपी डॉ. गोपाल कृषि विभाग में एफएस पद पर कार्यरत है। वह करीब 7 वर्ष पूर्व उसके घर में किराए पर रहने आया था। यहां आकर वह परिवार में घुल मिल गया। इसी का लाभ उठाते हुए डॉ. गोपाल ने महिला को कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर उसे पिला दिया। इसके बाद उसके साथ दुष्कर्म कर वीडियो भी बना लिया। होश में आने पर महिला ने जब विरोध किया तो उसे वीडियो वायरल करने की धमकी देकर चुप करा दिया। इसके बाद तो वह उसे ब्लैकमेल कर लगातार दुराचार करता रहा। लेकिन अब आरोपी ने उसकी नाबालिग 13 वर्षीय पुत्री पर भी गंदी नजर रखना शुरु कर दिया है। वह लगातार उसके साथ शारीरिक छेड़छाड़ करता रहा है। जब महिला ने इसका विरोध किया तो आरोपी ने महिला के अश्लील वीडियो वायरल कर दिए। इसकी जानकारी मिलने पर आत्मग्लानि के चलते उसके पति ने अपै्रल 2019 में आत्महत्या कर ली। इस पर आरोपी ने उसे धमकी दी थी कि यदि उसने रिपोर्ट दर्ज कराई तो उसे और उसकी पुत्री को जान से मार दिया जाएगा। बताया कि इस संबंध में एक जुलाई 2019 को थाना फरह में मुकदमा दर्ज कराया गया था। अभी तक पुलिस ने उसे गिरफ्तार नहीं किया है। इससे आरोपी के हौसले बुलंद हो गए हैं और वह मामले में राजीनामा करने के लिए लगातार दबाव बना रहा है। पीड़िता ने अधिवक्ता ठा. मदनगोपाल सिंह एवं अपने परिजनों के साथ एसएसपी से मुलाकात कर आरोपी के खिलाफ उचित कार्यवाही करने की गुहार लगाई है। अतः उसे शीघ्र गिरफ्तार कर कड़ी कार्यवाही की जाए। ताकि वह समझौता करने के लिए दबाव न बना सके और उन्हें किसी प्रकार की हानि न पहुंचा सके।