विधवा महिला से रिश्वत लेने वाले बाजना जेई निलंबित

0
577

मथुरा। विकासखंड नौहझील के कस्बा बाजना में बुधवार को भारतीय किसान यूनियन टिकैत ने विद्युत विभाग के जूनियर इंजीनियर के भ्रष्टाचार को लेकर धरना प्रदर्शन किया था। धरनास्थल पर पहुंचे जेई ने भी सभी के सामने सार्वजनिक रुप से इसे गलती बताते हुए स्वीकार कर लिया था। इस स्वीकारोक्ति के बाद भ्रष्टाचार की पुष्टि होने पर अधीक्षण अभियंता विद्युत विभाग ने आरोपी जेई को निलंबित कर दिया है।
भारतीय किसान यूनियन टिकैत ने बुधवार को एक विधवा महिला से विद्युत विभाग के जूनियर इंजीनियर सचिन कुमार और लाइनमैन सुभाष चंद्र पर नलकूप कनेक्शन के नाम पर 85 हजार रुपए लेने और मात्र 27 हजार रुपए की रसीद देने का आरोप लगाते हुए बाजना विद्युत उप केंद्र पर विधवा महिला के साथ धरना प्रदर्शन किया था। भाकियू टिकैत और महिला का आरोप था कि 85 हजार रुपए देने के बाद भी समस्या का समाधान नहीं हो सका। अनिश्चितकालीन धरने की सूचना पर अधिशासी अभियंता राजवीर सिंह, उपखंड अधिकारी नौहझील अक्षय राणा धरना स्थल पर पहुंचे और भाकियू पदाधिकारियों से वार्ता की। इसके बाद जेई सचिन कुमार को धरना स्थल पर बुलाया गया। यहां जेई सचिन ने भी लोगों के सामने 85 हजार रुपए लेना स्वीकार किया और इसे गलती मानते हुए माफी भी मांगी। जेई द्वारा अपने ही भ्रष्टाचार को स्वीकार करने पर अधीक्षण अभियंता अजय गर्ग ने आरोपी जेई सचिन कुमार को निलंबित करते हुए विद्युत वितरण खंड मांट से संबद्ध कर दिया है। वहीं निलंबित जेई सचिन कुमार का चार्ज अवर अभियंता अरविंद को दिया गया है। जिलाध्यक्ष राजकुमार तोमर ने बताया कि यह किसान यूनियन की जीत है। किसी भी विभाग के अधिकारी अथवा कर्मचारियों द्वारा किसानों, निर्धनों, मजलूमों के साथ किए जा रहे उत्पीड़न अथवा भ्रष्टाचार को भाकियू द्वारा किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उसके खिलाफ धरना प्रदर्शन कर अधिकारियों को कार्यवाही के लिए मजबूर किया जाएगा।