बालमुकुंद हत्याकांडः आश्रम पर हुआ कब्जा, परिजनों ने लगाई पुलिस से गुहार

0
492

मथुरा। वृंदावन के बहुचर्चित हत्याकांड महंत बालमुकुंद शरण शास़्त्री प्रकरण में रविवार को एक बार फिर उस समय सनसनीखेज मोड़ आ गया। जब मृतक महंत के परिजनों को आश्रम में अंदर नहीं घुसने दिया गया। परिजनों का आरोप है कि आश्रम पर कुछ लोगां ने कब्जा कर लिया है। साथ ही उनके कमरे में रखे बक्से का ताला तोड़कर 15 लाख की नगदी सहित कीमती जेवरात एवं अन्य सामान चुरा लिया है। परिजनों ने वृंदावन कोतवाली में तहरीर दी है।
हाल ही में वृंदावन के अटल्ला चुंगी स्थित आश्रम के महंत बालमुकुंद शरण शास्त्री की हत्या उसके ही चालक उमेश पाठक द्वारा अपने साथियों सहित करने का पुलिस ने खुलासा किया था। इस मामले में चालक उमेश पाठक अभी तक पुलिस की गिरफ्त से अभी तक बाहर है। यह हत्या आश्रम पर कब्जा करने की नीयत से की गई थी। इस मामले की पैरवी बालमुकुंद के भाई भतीजे कर रहे हैं। रविवार को मृतक महंत के परिजन आश्रम पर पहुंचे लेकिन यहां मौजूद लोगों ने उन्हें महंत के कमरे में नहीं घुसने दिया। उन्होंने काफी प्रयास किया लेकिन उनका प्रयास विफल रहा। जब उन्होंने इसका विरोध किया तो आश्रम पर मौजूद लोगों ने उन्हेंं देख लेने की धमकियां देते हुए बाहर भगा दिया। मृतक के भतीजे अंकित ने विषबाण को बताया कि मृतक महंत के मामले में पुलिस उदासीनता दिखा रही है। उनके कमरे में रखे बक्से में से 15 लाख नगद, कीमती जेवरात सहित अन्य सामान गायब है। उनके आश्रम पर अन्य लोगों ने कब्जा कर लिया है। लेकिन पुलिस इनकी सुनने को तैयार नहीं है। उन्होंने रविवार को वृंदावन पुलिस को तहरीर दे दी है। इस संबंध में वृंदावन पुलिस को फोन किया गया लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।