संभलः 2 सिपाहियों की हत्या कर फरार हुए 3 कैदी, मचा हड़कंप

0
512

संभल। उत्तर प्रदेश में अपराधी बेलगाम हो रहे हैं। कानून व्यवस्था की आए दिन खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। जबकि सीएम योगी आदित्यनाथ जगह-जगह कहते हैं कि प्रदेश के अपराधी या तो जेलों में हैं या फिर प्रदेश छोड़कर अन्य स्थानों पर चले गए हैं लेकिन आए दिन हो रही घटनाएं सीएम योगी के दावों की पोल खोलती नजर आ रही हैं। पुलिस कर्मियों पर हमला कर खूंखार अपराधियों को बदमाशों द्वारा छुड़ाया जा रहा है। इसके बाद भी भाजपा सरकार प्रदेश में सुशासन का दावा कर रही है। अब एक मामला प्रदेश के संभल जनपद का सामने आया है। यहां दो सिपाहियों को गोली मारकर तीन बदमाश पुलिस वैन से फरार हो गए। दोनों पुलिसकर्मियों की मौके पर ही मौत हो गई। खबर के मुताबिक, संभल के चंदौसी में कोर्ट में पेशी के लिए लाए गए 24 कैदियों को वापस मुरादाबाद ले जाया जा रहा था। इसी दौरान तीन बंदियों ने वैन में मौजूद सिपाहियों से हाथापाई शुरू कर दी। विवाद बढ़ने पर तीनों ने सिपाहियों को गोली मार दी और वैन से फरार हो गए। वहीं यह भी खबर आ रही है कि पुलिस वैन पर घात लगाकर बैठे कुछ अन्य अज्ञात बदमाशों ने हमला किया था।


खबर के मुताबिक, पुलिसवालों की आंख में मिर्च झोंककर बदमाशों ने हमला किया और उनके हथियार भी लूट लिए। फरार कैदियों की बाग और एक खेत में घेराबंदी की सूचना है। घटना के बाद मौके पर पहुंचे एसपी संभल और सीओ को चश्मदीद सिपाही ने बताया कि वह बुधवार को मुरादाबाद जेल में 24 कैदियों को संभल जिले की चन्दौसी की अदालत में पेश करने के लिए 6 पुलिसकर्मियों के साथ वैन में गए थे। पेशी कराने के बाद कैदियों को उसी वैन में वापस मुरादाबाद जेल ले जा रहे थे। तभी संभल जिले में देवाखेड़ा गांव के तीन कैदी वैन के भीतर ही सिपाहियों से हाथापाई करने लगे। इसके बाद दूसरे कैदी भी उनका साथ देने लगे। इस दौरान उन्होंने सिपाहियों के साथ मारपीट कर सरकारी हथियार छीन लिया। विरोध करने पर सिपाही हरेंद्र सिंह और ब्रजपाल सिंह को गोली मार दी। दोनों सिपाहियों ने वैन में ही दम तोड़ दिया। बाकी पुलिस वालों को भी जान से मारने की धमकी देकर तीनों कैदी वैन का ताला तोड़ भाग गए। फरार कैदी पुलिस वालों की सरकारी राइफल भी साथ ले गए। एसपी संभल यमुना प्रसाद फरार कैदियों की तलाश में कॉम्बिंग कर रहे हैं।

पुलिस लाइन में तैनात थे मृत सिपाही
सीओ के मुताबिक मारे गए सिपाही हरेंद्र सिंह और और ब्रजपाल सिंह संभल पुलिस लाइन में तैनात थे। वैन में कुल 24 बंदी सवार थे। कैदियों के पास अवैध हथियार पेशी के दौरान मिलने का शक है। चश्मदीद सिपाही खूब सिंह ने कैदियों के पास तमंचा, पिस्टल और चाकू होने की बात बताई है, जिसकी जांच की जा रही है। सिपाहियों के शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए मुरादाबाद भेजा गया है। आइजी रमित शर्मा भी संभल पहुंच गए।

सीएम योगी ने जताया शोक
पुलिसकर्मियों की शहादत पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शोक जताया है। उन्होंने ऐलान किया कि शहीद सिपाहियों के परिजन को सरकार की ओर से 50-50 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। इसके अलावा परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी और शहीद की पत्नी को असाधारण पेंशन देने की घोषणा भी सीएम ने की है।

मुजफ्फरनगर में दरोगा की हत्या कर छुड़ा ले गए थे बदमाश
मुजफ्फरनगर जिले में बीती दो जुलाई को बदमाशों ने मिर्जापुर से पेशी पर लाए गए कुख्यात अपराधी रोहित सांडू को बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर छुड़ा लिया था। इस दौरान गोली लगने से दरोगा दुर्ग विजय सिंह की मौत हुई थी जबकि एक सिपाही घायल हुआ था। हालांकि, 14 दिन बाद सोमवार रात पुलिस ने रोहित सांडू और उसके एक साथी को मुठभेड़ में मार गिराया था।