डीएम के छापे में नदारद मिले बच्चे, कार्यवाही के निर्देश पर मचा हड़कंप

0
760

मथुरा। महावन तहसील के एक परिषदीय विद्यालय के शिक्षकों को समय से पहले विद्यालय की छुट्टी कर बच्चों को घर भेजना भारी पड़ गया। छुट्टी से कुछ मिनट पहले ही डीएम ने विद्यालय में छापा मारा। स्कूल में सिर्फ 5 शिक्षिकाएं ही मौजूद मिलीं। शेष अध्यापक भी नदारद थे। डीएम ने स्कूल के पूरे स्टाफ पर कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं। इससे परिषदीय शिक्षकों में हड़कंप मच गया है।


बुधवार को महावन तहसील में तहसील दिवस था। जिले के प्रशासनिक अधिकारी जनसमस्याओं को सुनने के लिए तहसील पहुंचे थे। इसी दौरान जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र बलदेव विकासखंड के अमीरपुर परिषदीय विद्यालय पहुंचे। समय करीब 12.45 बजे का था लेकिन विद्यालय में एक भी बच्चा मौजूद नहीं था। सिर्फ 5 शिक्षिकाएं ही स्कूल में उपस्थित थीं। जबकि प्राईमरी और जूनियर हाईस्कूल का संविलयन होने के बाद स्कूल में 11 शिक्षक-शिक्षिकाएं और 2 अनुदेशक का कुल स्टाफ है। समय से पहले ही बच्चों को छोड़ दिए जाने के चलते डीएम स्कूल स्टाफ पर काफी नाराज नजर आए। विद्यालय का गेट बंद करवा कर डीएम ने विद्यालय के रजिस्टर तलब कर हाजिरी ली। डीएम ने स्कूल से ही बेसिक शिक्षा अधिकारी को पूरे विद्यालय स्टाफ पर कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिए। डीएम द्वारा मिले निर्देश के बाद भी बीएसए कार्यवाही करने के लिए पशोपेश में थे। डीएम द्वारा बुधवार को मारे छापे और कार्यवाही के स्पष्ट आदेश से परिषदीय शिक्षकों में हडकंप मच गया है। शिक्षकों में पूरे दिन डीएम के छापे और कार्यवाही को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं होती रहीं। बीएसए चंद्रशेखर ने विषबाण को बताया कि अभी शिक्षकों पर कोई कार्यवाही नहीं हुई है। अभी पत्रावली तैयार की जा रही है। उनसे पूछा गया कि क्या शिक्षकों पर निलंबन की कार्यवाही की जा रही है तो उन्होंने कहा कि जो भी कार्यवाही होगी। बता दिया जाएगा।