बरसाना लठामार होली प्रांतीय मेला घोषित, लोगों में खुशी

0
537

मथुरा। सब जग होरी, ब्रज में होरा। यह कहावत मथुरा की विश्व प्रसिद्ध होली के लिए विश्व विख्यात है। इसमें भी बरसाना की लठामार होली तो समूचे विश्व में जिस तरह प्रसिद्ध है। उसका कोई दूसरा उदाहरण नहीं मिलता। बरसाना के इसी होली महोत्सव को अब राज्यपाल द्वारा प्रांतीय मेला घोषित कर दिया है। इससे बरसाना के साथ जनपद में भी हर्ष की लहर दौड़ गई है। हालांकि इस पर अभी आपत्तियां मांगी गई हैं।
मथुरा में होलिका दहन की तिथि से 40 दिन पूर्व ही होली का ढांड़ा गढ़ जाता है और ब्रज में होली के विभिन्न कार्यक्रम आयोजित होने आरंभ हो जाते हैं। इसमें श्रीकृष्ण जन्मभूमि की रंगमार होली, गोकुल की लड्डू होली, बिहारीजी मंदिर और ठाकुर द्वारिकाधीश मंदिर में तो पूरे 40 दिन की होली होती है। होली के बाद बलदेव का हुरंगा विख्यात है। लेकिन इन सभी में भी बरसाना की लठामार होली विश्वभर में काफी प्रसिद्ध है। इस होली को आनंद लेने के लिए देश के साथ विदेशों से भी पर्यटक बरसाना आते हैं और लठामार होली का लुत्फ उठाते हैं। इस होली में सिर्फ खेलने वालों में ही प्रेम पगे लठ्ठ नहीं पड़ते वरन् यहां सुरक्षा के लिए पुलिस अधिकारियों, प्रशासनिक अधिकारियों एवं विदेशी भक्तों को भी इसका आनंद मिलता है। मेले में लाखों लोग उमड़ते हैं। यही कारण है कि अब राज्यपाल राम नाईक ने फाल्गुन मास के तीन दिन अष्टमी, नवमी और दशमी को आयोजित होने वाले बरसाना के होली महोत्सव को प्रांतीय मेला घोषित कर दिया है। उप्र नगर विकास प्रमुख सचिव मनोज कुमार सिंह ने इस आशय की अधिसूचना मथुरा जिलाधिकारी को प्रेषित कर दी है। उक्त सूचना के समस्त उपबंध वर्णित क्षेत्र-पूर्व, बरसाना देहात, ललिता सखी का गांव तथा चिकसौली ग्राम उक्त अवधि के दौरान प्रवर्तित होंगे। इस आदेश से संबंधित आपत्तियां अथवा सुझावों को भी 30 दिन के अंदर मांगा गया है। बरसाना होली के प्रांतीय मेला घोषित होने से बरसाना, नंदगांव के साथ जनपदवासियों में खुशी की लहर दौड़ गई है।