बाढ़ एवं सूखा से बचने को प्रशासनिक अधिकारी हो रहे तैयार

0
272

मथुरा। कलेक्ट्रेट सभागार में शनिवार को सूखा एवं बाढ़ राहत को लेकर आवश्यक बैठक आयोजित की गई। इसमें जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र ने सूखा एवं बाढ की स्थिति उत्पन्न होने पर संबंधित विभागों को अद्यतन कार्य योजना तैयार कर 28 मई तक उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।


डीएम सर्वज्ञराम मिश्र ने कहा कि जनपद में बाढ़ की स्थिति नहीं रहती है, लेकिन जल प्लावन की स्थिति उत्पन्न होने पर तैयारी करना बहुत जरूरी है। उन्होंने आम जनमानस को उत्पन्न होने वाली समस्याओं के समाधान हेतु समय से व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए। तहसीलवार जल प्लावन की स्थिति में बाढ़ चैकिंग स्थापित कर लेखपालों की ड्यूटी लगाने के निर्देश सभी एसडीएम को दिए। उन्होंने गोवर्धन पार्किंग मार्ग से पानी निकासी की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के लिए एसडीएम गोवर्धन को निर्देश दिए। उन्होंने यमुना किनारे गांवों में विशेष ध्यान देने को कहा। स्वास्थ्य विभाग अपने सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर दवाओं की उपलब्धता तथा तहसील प्रशासन से समन्वय स्थापित करें। इसी प्रकार पशुपालन विभाग पशुओं हेतु भूसा/चारे की व्यवस्था कराएं। पशुओं में टीकाकरण हेतु गलाघोंटू वैक्सीन सहित कृमि नाशक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कराएं।

डीएम ने सभी अधिशासी अधिकारियों को निर्देश दिए कि नालों की साफ-सफाई व्यवस्थित रूप से कराएं। उन्होंने कहा कि जल प्लावन की स्थिति में जिला स्तर पर कलेक्ट्रेट व सिंचाई विभाग में तथा तहसील स्तर पर कन्ट्रोल रूम की स्थापना कराई जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में जल निकासी की व्यवस्था जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा करायी जाएगी। बैठक में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व बृजेश कुमार, एसपी ग्रामीण आदित्य शुक्ला, परियोजना निदेशक रवि किशोर त्रिवेदी, अधिशासी अभियंता सिंचाई सहित सभी उप जिलाधिकारी, जिला कृषि अधिकारी सहित संबंधित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।