पत्रकार को दी श्रद्धांजलि, सरकार से 20 लाख की सहायता की मांग

0
417

मथुरा। दैनिक जागरण के वरिष्ठ एवं युवा पत्रकार महेश चौधरी के आकस्मिक निधन पर एक शोकसभा आयोजित हुई। इसमें जनपद के पत्रकारों ने श्रद्धांजलि अर्पित कर उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। मृतक पत्रकार के परिवार को पत्रकार एवं गणमान्य नागरिकों ने सहयोग राशि देने की घोषणा की। रविवार की सुबह महेश चौधरी की अचानक तबियत खराब हो गई थी। इसके बाद उन्हें नयति अस्पताल ले जाया गया। यहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। इसके बाद पत्रकार जगत में शोक व्याप्त हो गया था।

पत्रकार महेश चौधरी (फाइल फोटो)

उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए बुधवार को होलीगेट स्थित अग्रवाल धर्मशाला में एक शोकसभा का आयोजन किया गया। शोकसभा में जनपद के विभिन्न वरिष्ठ एवं युवा पत्रकारों ने महेश चौधरी की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। साथ ही मृतक के परिवार को इस दुखभरी घड़ी में संबल प्रदान करने की भगवान से प्रार्थना की। इस दौरान शोकसभा में उपस्थित पत्रकार एवं गणमान्य नागरिकों ने मृतक के परिवार को आर्थिक सहायता प्रदान करने की भी घोषणा की। इसमें महाराजा ग्रुप के चेयरमैन प्रीतम सिंह ने एक लाख रुपए, वरिष्ठ पत्रकार अनूप शर्मा ने 11 हजार रुपए देने की घोषणा की। वरिष्ठ पत्रकार अनंतस्वरुप वाजपेयी ‘देशभक्त’ ने मृतक के बच्चों की पढ़ाई का व्यय वहन करने की घोषणा की। तथा अन्य पत्रकारों ने भी पूर्ण सहयोग करने की घोषणा की। तथा सरकार से 20 लाख रुपए की सहायता की मांग की गई। नगर निगम के महापौर डॉ. मुकेश आर्यबंधु से पुष्पांजलि आवासीय कालोनी की सड़क का नाम महेश चौधरी के नाम से करने की मांग की। इस पर मेयर ने चुनाव समाप्त होने के बाद इस मांग को पूरा करने पर सहमति जताई। दैनिक जागरण के ब्यूरो चीफ योगेश जादौन ने कहा कि महेश चौधरी एक युवा पत्रकार था। हंसमुख होने के साथ ही वह काफी मेहनती और होनहार था। पत्रकारिता को एक नया आयाम देने का प्रयास किया। वरिष्ठ पत्रकार अंनतस्वरुप वाजपेयी ‘देशभक्त’ ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि युवा पत्रकारों के लिए महेश चौधरी एक उदाहरण हैं। उन्होंने निडर होकर पत्रकारिता की। कभी किसी के दबाव में नहीं आए और अपनी पत्रकारिता में कभी समझौता नहीं किया। शोकसभा में योगेश चौधरी, मृतक महेश चौधरी के बहनोई सूर्यभान चौधरी, पूर्व चेयरमैन वीरेंद्र अग्रवाल, पीटीआई से विजय आर्य विद्यार्थी, सीपी सिकरवार, विषबाण के संपादक मफतलाल अग्रवाल, हिंदुस्तान के जिला प्रभारी दिलीप चतुर्वेदी, जिला सूचना अधिकारी सुरजीत सिंह, मधुसूदन शर्मा, नवनीत शर्मा, मनोज चौधरी, उप सभापति मूलचंद गर्ग, राजेश भाटिया, रामकुमार रौतेला, नागेंद्र राठौर, कमलकांत उपमन्यु, महेश शर्मा एडवोकेट, आशीष निगम, हेमंत शर्मा, उमेश भारद्वाज, नरेंद्र भारद्वाज, सुभाष सैनी, बालकृष्ण अग्रवाल, अंकुर कुलश्रेष्ठ, भरतपाल सिंह, गगन पाटिल, विवेक मथुरिया, मोहनश्याम शर्मा, राजकुमार गौतम, राजपथ के संपादक पवन नवरत्न, चंद्रशेखर गौड़, मनोज चौहान, अंतराम, कासिम, गिरीश, जगदीश वर्मा समंदर, राकेश शर्मा, मोहनश्याम रावत, आसिफ अली पप्पी, एनआर राजपूत, गौरव चौधरी, नारायन सिंह सिसौदिया, विनोद दीक्षित सहित अन्य पत्रकार मौजूद रहे।

पत्रकारों में दिखा अफसरों एवं नेताओं के प्रति असंतोष
शोकसभा में शामिल पत्रकारों में प्रशासनिक, पुलिस अधिकारियों, राजनैतिक एवं सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों की अनुपस्थिति को लेकर काफी रोष दिखाई दिया। आपस में यह चर्चा रही कि पत्रकार प्रत्येक सामाजिक कार्यां और पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों के साथ हर कदम खड़ा दिखाई देता है। लेकिन जब पत्रकारों पर कोई दुख की घड़ी आती है तो यही नेता, अधिकारी सहित सामाजिक संस्थाएं पत्रकारों से मुंह मोड़ लेती हैं। शोकसभा में सिर्फ दो-तीन राजनेता और सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधि दिखाई दिए।