सुषमा स्वराज के कार्यक्रम में अपमानित हुए दिग्गज भाजपाई

0
986

मथुरा। भाजपा के केंद्रीय मंत्री के सम्मेलन में एक बार फिर वरिष्ठ पदाधिकारियों को अपमानित करने का मामला सामने आया है। सम्मेलन में बृज क्षेत्र के वरिष्ठ महिला पदाधिकारी सहित पूर्व जिलाध्यक्ष एवं पूर्व सांसद तक को भी मंच पर जगह नहीं दी गई है। जबकि जूनियर पदाधिकारी मंच पर बैठे हुए थे। इससे पदाधिकारियों में रोष व्याप्त हो रहा है। वहीं कुछ भाजपा नेता दबी जुबां में भाजपा में फैल रहे इस नए कल्चर को कोस रहे हैं।


सोमवार को गोवर्धन रोड स्थित श्रीजी बाबा सरस्वती विद्या मंदिर में आईटी जिला सम्मेलन एवं महिला जिला सम्मेलन का आयोजन किया गया था। इसमें प्रतिभाग करने के लिए केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज भी आई थीं। कार्यक्रम शुरु होने में कुछ देर थी लेकिन इसी दौरान वहां मौजूद पदाधिकारियों में खुसर-पुसर शुरु हो गई। यह खुसर पुसर मंच पर सुषमा स्वराज के साथ ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा, कैबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायन, उप्र कॉपरेटिव बैंक के चेयरमैन तेजवीर सिंह, उप्र व्यापारी कल्याण बोर्ड के चेयरमैन रविकांत गर्ग, जिलाध्यक्ष नगेंद्र सिकरवार, लोकसभा चुनाव प्रभारी डॉ डीपी गोयल, महिला जिलाध्यक्ष लता अग्रवाल सहित कुछ कनिष्ठ पदाधिकारी भी बैठे हुए थे। जबकि अन्य कई वरिष्ठ पदाधिकारियों को मंच पर स्थान नहीं दिया गया था। इनमें एक बृज क्षेत्र की वरिष्ठ पदाधिकारी, पूर्व जिलाध्यक्ष और हाल ही में भाजपा की सदस्यता लेने वाले पूर्व सांसद शामिल थे। इससे आहत होकर पूर्व जिलाध्यक्ष और पूर्व सांसद कार्यक्रम छोड़कर चले गए। महिला पदाधिकारी को इसलिए नहीं बुलाया गया क्योंकि मंच पर सिर्फ महिला जिलाध्यक्ष को ही स्थान दिया जाना था।

महिला जिलाध्यक्ष लता अग्रवाल ने बताया कि यह आईटी सेल का कार्यक्रम था। इसमें महिला सम्मेलन का कोई कार्यक्रम नहीं था। हालांकि महिलाएं बड़ी संख्या में कार्यक्रम में मौजूद रहीं। जब उनसे पूछा गया कि यह महिला सम्मेलन नहीं था फिर भी आपको मंच पर स्थान दिया गया लेकिन आपसे वरिष्ठ पदाधिकारी को मंच पर स्थान नहीं मिला। इस संबंध में आईटी सेल के जिला संयोजक माधव अग्रवाल ने बताया कि मंच से पूर्व जिलाध्यक्ष को आवाज दी गई थी लेकिन उन्हें कहीं जाना था, इसलिए वह जा चुके थे। इसी तरह पूर्व सांसद का नाम सूची में शामिल नहीं था। फिर भी उनके नाम को सूची में शामिल कर उन्हें भी मंच पर बुलाया गया लेकिन वह भी तब तक वहां से निकल चुके थे। महिला पदाधिकारी को स्थान न मिलने के सवाल पर बोले कि यह महिला सम्मेलन नहीं था। महिला जिलाध्यक्ष होने के नाते लता अग्रवाल को मंच पर स्थान दिया गया था।