हेमा मालिनी की फसल काटने की तस्वीरे निकली पुरानी, फर्जी

0
869
मथुरा : लोकसभा चुनाव जीतने के लिए विभिन्न दलों के नेता जहां लोक लुभावन वायदे कर रहे हैं वही दुसरी ओर शोशल मीडिया पर फर्जी खबरें,पुरानी फ़ोटो को वायरल कर जनता का दिल जीतने के लिए हर हथकंडे अपनाए जा रहे हैं इसी तरह का मामला  मथुरा  लोकसभा सीट से दूसरी बार चुनाव लड़ रही फिल्म अभिनेत्री हेमा मालिनी का सामने आ रहा है जिसमे हेलीकाप्टर से खेतों मे आकर फसल काटने तथा पुरानी फ़ोटो को नया बताकर शोसल मीडिया पर वायरल कर मतदाताओं को प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है ।जिसका खुलासा होने के बाद ये मामला चुनाव मे तूल पकड़ता नजर आ रहा है।
पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया पर हेमा मालिनी के दो फोटो वायरल हो रहे हैं। एक में वो हेलीकॉप्टर से उतरती हुई दिख रही हैं और दूसरी में खेत में गेहूं की फसल काट रही हैं। दोनों तस्वीरों के साथ मैसेज वायरल हो रहा है कि ‘मोदी जी पर गर्व है। महिला किसानों को हेलीकॉप्टर दिए जा रहे हैं, जिससे वो खेत पहुंच रही हैं।’ सोशल मीडिया यूजर्स ने दूसरे मैसेज में भी मजे लेते हुए लिखा कि ‘हेलीकॉप्टर फार्मर हेमा मालिनी’। लोकसभा चुनाव में प्रचार के दौरान ऐसी कई तस्वीरे वायरल हो रही हैं। जिसके जवाब में कांग्रेस समर्थकों द्वारा भी इंद्र गांधी की तस्वीरें वायरल की गईं आइये जानते हैं हेमा मालिनी की तस्वीरों का वायरल सच

क्या है तस्वीर का सच : खेत में गेहूं की फसल काटते हुए हेमा मालिनी की दोनों तस्वीरे इस साल की नहीं है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक बीजेपी से उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद 31 मार्च को मथुरा से बीजेपी सांसद और लोकसभा उम्मीदवार हेमा मालिनी अपने लोकसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार के लिए पहुंची थी। इस दौरान वहां के गोवर्धन इलाके में खेत में पहुंची और वहां खेत में काम कर रही महिलाओं के साथ गेहूं की फसल काटने लगीं। सोशल मीडिया पर पहले हेमा मालिनी की 31 मार्च की तस्वीर वायरल हुई। लेकिन अगले ही दिन उनकी दूसरी तस्वीरें उसी घटना से जोड़कर वायरल की जाने लगीं।

– हेमा मालिनी ने भी अपने ट्विटर अकाउंट से इन तस्वीरों को 31 मार्च को ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा था कि आज से मेरे लोकसभा क्षेत्र में मेरा चुनाव प्रचार शुरू हो गया है। आज मुझे खेत में काम करने वाली महिलाओं से मिलने का मौका मिला।

पहली तस्वीर कब की है : ऐसे में सवाल उठता है कि फिर दोनों तस्वीरें कब की हैं। सबसे पहले बात पहली तस्वीर की। हेलीकॉप्टर वाली तस्वीर को गूगल पर रिवर्स इमेज कर सर्च करने पर पता चला कि ये हेमा मालिनी के ही ट्विटर अकाउंट पर अक्टूबर 2015 को पोस्ट की गई है। तस्वीर के साथ उन्होंने लिखा था कि ‘कैंपेन का दूसरा दिन। पटना से’। यानी साफ है कि हेलीकॉप्टर वाली तस्वीर पटना की है।
दूसरी तस्वीर कब की है : दूसरी फोटो भी इस साल की नहीं है। गूगल पर रिवर्स सर्च करने पर पता चला कि दूसरी फोटो अप्रैल 2014 की है। इसे भी हेमा मालिनी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया था।

– दोनों तस्वीरें दो अलग-अलग इवेंट्स की हैं। तस्वीरों को देखने पर कई फर्क दिखते हैं। एक में हेमा मालिनी ने चूड़ी पहनी है जबकि दूसरी में हाथ खाली हैं। इसके अलावा दोनों तस्वीरों में हेमा मालिनी की साड़ी भी अलग-अलग है।

निष्कर्ष : सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हेमा मालिनी की दोनों तस्वीरें इस साल की नहीं हैं। हेलीकॉप्टर वाली तस्वीर साल 2015 की है और गेहूं की फसल काटने वाली दूसरी तस्वीर 2014 की है। यानी दोनों तस्वीरों के साथ सोशल मीडिया पर किया जा रहा दावा फेक है।