सुरीर कोतवाली में पत्रकारों के बीच चले लात-घूसे, 1 हिरासत में

0
2171

मथुरा। सुरीर कोतवाली में दलाली को लेकर दो पत्रकारों के बीच कोतवाल की उपस्थित में जमकर गाली-गलौज के बीच लात-घूसे चल गये। जिसमें पुलिस ने पत्रकारों को पहले अलग-थलग किया फिर दूसरे पत्रकार को हिरासत में ले लिया। लेकिन पुलिस ने हिरासत में लेने से इन्कार किया है।

पिछले महीने दम्पति आत्मदाह मामले में देश-प्रदेश में चर्चित हुई सुरीर कोतवाली ेमं उस समय हंगामा मच गया जब पीड़ित एवं आरोपी पक्ष की एक दूसरे की तरफदारी को लेकर पत्रकारों के दो गुट कोतवाल के सामने गाली-गलौच करते हुए एक दूसरे पर लात-घूसे चलाने लगे। सुरीर कोतवाल एवं अन्य पत्रकारों ने जैसे-तैसे दोनों पक्षों को अलग-थलग किया और एक पक्ष के पत्रकार को हिरासत में लेकर थाने में बैठा लिया। घटना के प्रत्यक्ष दर्शियों के मुताबिक मंगलवार की दोपहर सुरीर कोतवाली के अन्तगर्त गांव भिदौनी निवासी भोला सूरदास अपने मकान के सामने रैम्प बना रहा था जिसे उसका पड़ौसी धर्मवीर सिंह बनाने नहीं दे रहा था। इसकी शिकायत भोला द्वारा सुरीर कोतवाली में की गई। जिसकी खबर एक पत्रकार द्वारा चलायी गई। जबकि धर्मवीर की तरफदारी में दूसरा पत्रकार खड़ा हो गया।

बतातें हैं कि पीड़ित पक्ष के साथ पुलिस के साथ-साथ कुछ पत्रकार भी भिदौनी पहुंच गये। जब गांव से लौटकर आये और कोतवाल रवि त्यागी ने मामले को निपटाने का प्रयास किया तो दोनों-पक्षों के पत्रकार एक-दूसरे पर आरोप लगाने लगे इस पर गाली-गलौच के बाद कोतवाल की टेबिल पर रखी स्वागत पट्टिका को उठाकर एक पत्रकार ने दूसरे पत्रकार पर हमला करने का प्रयास किया तो दूसरे पत्रकार ने अपना बचाव करते हुए प्रतिद्वंदि पत्रकार पर थप्पड़-लात-घूसे बरसाने शुरू कर पत्रकारों में घमासान को देख कोतवाल एवं पुलिस तथा अन्य पत्रकारों ने जैसे-तैसे दोनों की अलग-थलग किया। जिसमें एक पत्रकार को हिरासत में लेकर थाने के अन्दर बैठा दिया गया। घटना के प्रत्यक्षदर्शी गुड्डू ठाकुर का कहना है कि कोतवाली में सुबह से शाम तक दलाल पत्रकारों का जमघट लगा रहता है। जिनकी सांठ-गांठ से ही पीड़ितों की सुनवाई होती है। जिसके कारण 28 अगस्त को उनके भतीजे को जोगेन्द्र एवं चन्द्रवती को पैट्रोल छिड़ककर आग लगाकर जान गंबाने पर मजबूर होना पड़ा था। लेकिन इसके बाबजूद भी सुरीर कोतवाली में दलालों के बगैर पीड़ितों की सुनवाई नहीं हो रही है।

इस संबंध में सुरीर कोतवाल रवि त्यागी ने ‘‘विषबाण’’ से कहा कि दो पत्रकारों के बीच गाली-गलौज की घटना हुई है। जिसमें दोनों पक्षों द्वारा ना तो कोई तहरीर दी गई है और ना ही किसी पत्रकार की हिरासत में लिया गया है। दोनों पत्रकार अपने-अपने घर चले गये हैं।

अब यूट्यूब पर भी देखें मथुरा की खबरें, देखने के लिये सब्सक्राइब करें हमारा यूट्यूब चैनल Vishban News