माँ-बुजुर्गों के सम्मान से ही बढ़ेगा समाज -डॉ. श्रीकान्त

0
196

मथुरा/वृन्दावन। जिस समाज एवं परिवार में बुजुर्गों को सुख और सम्मान नहीं मिलता उसकी आगामी पीढ़ियों को भी सुख और सम्मान नहीं मिलता यह विचार विश्व बुजुर्ग दिवस के उपलक्ष में नवोज्जवल फाउंडेशन के तत्वावधान में वृंदावन शोध संस्थान में आयोजित छड़ी वितरण समारोह में कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बौद्धिक प्रमुख  डॉ. श्रीकांत ने व्यक्त किए इस अवसर पर उन्होंने कहा निस्वार्थ के लिए की जाने वाली सेवा सेवा नहीं है सेवा निस्वार्थ भाव से होनी चाहिए देश में आज भी सेवा की बेहद आवश्यकता है एक बड़ी आबादी को आज भी दिन में सिर्फ एक समय ही भोजन मिलता है सेवा के नाम पर आडंबर नहीं होना चाहिए.

मुख्य अतिथि डॉ अनिल गहलोत ने कहा कि जिस तरह से मां बच्ची का भरण पोषण करती है यानी कि मां सर्वाधिक सुख देने वाली होती है और सुख देने का तरीका जानती है उसी तरह समाज में बुजुर्ग भी सुख प्रदान करते हैं संघ के विभाग प्रचारक गोविंद ने कहा व्यक्ति को समाज से बहुत कुछ मिलता है इसलिए समाज के लिए देने का दायित्व भी हम सब का बनता है स्वामी विवेकानंद गिरी महाराज कनखल हरिद्वार में कहा सेवा का सुख संसार के सर्वोत्तम सुख की श्रेणी में आता है वरिष्ठ भाजपा नेता योगेश आवा नवोज्जवल फाउंडेशन के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि बुजुर्गों को छड़ी वितरण बुढ़ापे की लाठी का प्रतिरूप है और हमें बुजुर्गों की लाठी बनना चाहिए युवा व्यवसाय ठाकुर पवन सिंह ने बुजुर्गों के प्रति अपनी श्रद्धा अर्पित करते हुए कहा कि हम बुजुर्गों के सदैव भी नहीं इस अवसर पर विधवा आश्रम एवं वृद्ध आश्रमों में आश्रय पाई हुई 150 बुजुर्ग माताओं को छड़ी प्रदान की गई.

मंच स्थितियों में स्वामी नित्य चैतन्य महाराज डीजीसी चंद्रमोहन वरिष्ठ समाजसेवी वीरपाल भरंगार ओम प्रकाश बंसल, गोविंद आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे सहयोग ललित गौतम ,ऋषि, पवन अग्रवाल , दिलीप यादव, अंकित गोस्वामी, आदि का सहयोग रहा संचालक नवोज्जवल फाउंडेशन के सचिव विष्णु कुमार शर्मा ने किया कार्यक्रम का शुभारंभ गणेश जी के चित्र पर माल्यार्पण कर धन्यवाद ज्ञापन संस्था अध्यक्ष नारायण हरि ने किया.