मथुरा में एसएसपी के सामने दिन-दहाड़े की फायरिंग, कार में लगाई आग

0
1004

मथुरा। उत्तर प्रदेश में मोदी-योगी के तमाम दावों के बाबजूद भी प्रशासन की कार्यप्रणाली से त्रस्त युवक ने महिला एवं बच्चों के साथ एसएसपी कार्यालय के सामने ताबड़तोड़ फायरिंग कर अपनी कार में आग लगाकर शासन-प्रशासन में हड़कम्प मचा दिया। पुलिस ने आरोपी युवक सहित महिला एवं तीन बच्चों को कब्जें में लेकर पूछताछ करने में जुटी थी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के तमाम दावों के बाबजूद भी पुलिस-प्रशासन की कार्यप्रणाली में सुधार ना होने से कुछ दिन पूर्व दम्पति ने सुरीर कोतवाली में आत्मदाह कर अपनी जान गंवा दी। इसके बाबजूद भी पुलिस प्रशासन के रवैया में परिवत्रन होता दिखाई नहीं दिया है। इसी का परिणाम कि बुद्धवार की शाम करीब 5 बजे जिला मुख्यालय स्थित सिविल लाइन पुलिस चौकी एवं एसएसपी कार्यालय से ठीक सामने शुभम चौधरी पुत्र विक्रम सिंह निवासी केशव पुरम कालोनी दमोदरा पुरा औरंगाबाद एक महिला एवं तीन बच्चों के साथ कार से पहुंचा और पुलिस के सामने ही मथुरा-अलीगढ़ मार्ग पर पहले तो कार को रोका फिर महिला और बच्चों को सड़क किनारे बैठाकर कार में आग लगा दी जिससे कार धूं-धूं कर जलने लगी।

कार को धूं-धूं कर देख राहगीर एवं वकील कार की तरफ बढ़े तभी युवक ने हाथ में पिस्टल लेकर हवाई फायर करने शुरू कर दिये जिसे देखकर वकील एवं राहगीरों के कदम जहां थी तहां रूक गये एक तरफ युवक फायर करते हुए जा रहा था तो दूसरी तरफ वह चेतावनी देते जा रहा था कि अगर किसी ने आगे बढ़ने का प्रयास किया तो वह स्वयं को गोली मार लेगा उधर फायरिंग एवं कार में आग लगने की सूचना पर वरिष्ट पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर सहित बड़ी संख्या में पुलिस बल भी मौके पर पहुंच गया और एसएसपी ने फायरिंग रोकने के लिये कहा जिस पर युवक पुलिस भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए बुरा-भला कहना शुरू कर दिया एक तरफ युवक पूरे सिस्टम के प्रति जहर उगल रहा था तो दूसरी तरफ सड़क किनारे बैठी महिला भी हाथ में तमंचा लेकर अपने आपको गोली से उड़ाने की धमकी दे रही थी।

मौके पर बड़ी संख्या में उपस्थित वकीलों ने युवक को बातों में उलझाये रखा इसके बाद एसएसपी ने साहस कर परिचय देते हुए पीछे से महिला और तीनों बच्चों को अपने कब्जें में ले लिया। जैसे ही युवक ने महिला की तरफ मुड़कर देखा तभी वकीलों ने युवक को घेर लिया और अपने कब्जे में ले लिया जिसे पुलिस चौकी में महिला एवं बच्चों के साथ बन्दक कर दिया गया। घटना के प्रत्यक्षदर्शी बार के सचिव विशाल सिंह, जुगेन्द्र सिंह सिसौदिया एड, बृजेश कुन्तल, हाकिम िंसह एड आदि ने बाया कि युवक को जैसे-तैसे काबू में कर पुलिस के हवाले किया गया। उधर दूसरी तरफ कार में लगी आग को बुझाने के लिये फायर बिग्रेड भी मौके पर पहुंच गई और जैसे-तैसे आग पर काबू पाया। लेकिन तब तक पूर्ण रूप से जलकर राख हो चुकी थी।

एसएसपी शलभ माथुर ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि अभी युवक एवं महिला से जानकारी की जा रही है। इसके बाद जो भी दोषी होगा उसके विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। घटनाक्रम से जुड़े एल.के. गौतम एड. ने ‘विषबाण’ को बताया कि युवक के साथ आयी महिला के साथ कैन भी थी जिसमें काई ज्वलनशील पदार्थ भरा हुआ था। साथ ही युवक पुलिस पर 10 हजार रुपये रिपोर्ट दर्ज के बदले मांगने, सिस्टम में भ्रष्टाचार व्याप्त, थानाध्यक्ष अनुराग शर्मा द्वारा सुनवाई ना करने, संगीन अपराध की एनसीआर दर्ज करने का आरोप लगाते हुए प्रतिमाह एक लाख रुपये टैक्स भरने का दावा कर रहा था। युवक वकील के लिबास सफेद शर्ट काला पैन्ट पहने हुए था। जबकि बार के सचिव विशाल सिंह ने युवक के वकील होने से इंकार किया है।