मथुरा में दबंगों के उत्पीड़न से त्रस्त दंपत्ति ने थाने में खुद को लगाई आग, हालात चिंताजनक

0
1483

उ.प्र. में योगी सरकार के तमाम दावों के बावजूद भी जनपद में दबंगों के आतंक से त्रस्त पीड़ित मजदूर परिवार की सुनवाई ना होने से त्रस्त पति-पत्नि ने सुरीर थाना में मिट्टी का तेल छिड़ककर आग लगा ली। जिन्हें उपचार के लिये जिला अस्पताल लाया गया है जिनकी हालत चिंताजनक बनी हुई है। घटना को लेकर पुलिस-प्रशासन में हड़कम्प मचा हुआ है।
मथुरा जनपद के सुरीरकलां निवासी जुगेन्द्र ठाकुर निकटवर्ती ईंट भट्टा पर चैकीदारी का कार्य करता है, के पत्नि एवं परिवार को पड़ोसी दबंग युवक सत्यपाल सिंह ठाकुर शराब पीकर पत्नी एवं बेटे से गाली-गलौच करता था जिसकी शिकायतंे पति-पत्नि पिछले एक माह से थाना पुलिस से लेकर कप्तान तक करते आ रहे थे। जिसमें जांच पर जांच हो रहीं थीं लेकिन दबंगों के खिलाफ थाना सुरीर पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करती थी बल्कि जिस दिन पीड़ित परिवार पुलिस से शिकायत करता उसी दिन एवं उसके बाद पीड़ित के घर पर आकर शराब के नशे में गाली-गलौच करता था। पुलिस द्वारा कोई सुनवाई ना करने एवं दबंगों से त्रस्त भट्टा मजदूर आज सुबह करीब आठ बजे हाथ में कैन लेकर सुरीर कोतवाली के अंदर पहुंच गये और दोनों ने वहां तेल छिड़ककर आग लगा ली। दोनों के शरीर से लपटें उठते देख पुलिस एवं मौजूद अन्य ग्रामीण बचाने के लिये पहुंचे तब तक दोनांे पति-पत्नि गंभीर रूप से जल चुके थे।

जिन्हें गंभीर अवस्था में जिला अस्पताल ले जाया गया है। गंभीर रूप से जले जुगेंद्र सिंह ने बताया कि दबंग युवक पत्नि एवं बेटे से गाली-गलौच एवं आये दिन मारपीट करता था जिसकी शिकायत हलका इंचार्ज दीपक नागर सहित कोतवाली पुलिस के साथ-साथ वरिष्ट पुलिस अधिकारियों से कई बार की गई लेकिन उन्हें न्याय नहीं मिला। पीड़ित ने कहा कि मुझे न्याय दिलाओ तब मुझे शांति मिलेगी। घटना की जानकारी मिलते ही बड़ी संख्या में लोग कोतवाली पर एकत्रित हो गये एवं उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि कोतवाली दलालों का अड्डा बन गई है। यहां गरीबों को न्याय नहीं मिलता केवल पैसे से ही यहां सब कुछ होता है। ग्रामीणों का कहना था कि आरोपी युवक सत्यपाल सिंह जोकि कस्बा सहित क्षेत्र में दबंगई करता रहता है जिसके द्वारा अनेक लोगों के साथ वारदातों को अंजाम दिया गया है जिसकी शिकायतें कई बार सुरीर कोतवाली मंे पीड़ितों द्वारा की गई हैं लेकिन पीड़ितों की शिकायत पर आरोपी युवक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। ग्रामीणों का यह भी कहना है कि आरोपी युवक कोतवाली मंे दलाली एवं कई पुलिसकर्मियों के साथ बैठकर शराब पीता रहा है। जिससे उसका आतंक लगातार बढ़ता जा रहा था। यही कारण है कि पीड़ित पति-पत्नि ने उत्पीड़न से त्रस्त होकर थाने में ही आत्मदाह करने का प्रयास करने पर मजबूर होना पड़ा।इस घटना के सम्बंध में अपर पुलिस देहात मथुरा आदित्य शुक्ला से ‘‘विषबाण’’ द्वारा सम्पर्क किया गया तो उन्होंने बताया कि वह गोवर्धन आये हुए हैं एवं उन्हें घटना के सम्बंध में खास जानकारी नहीं हैं तथा मौके पर जा रहे हैं। इस सम्बंध में क्षेत्राधिकारी मांट विनय चैहान के सीयूजी नम्बर पर कई बार सम्पर्क किया गया लेकिन फोन रिसीव नहीं किया गया। समाचार लिखे जाने तक पति-पत्नि की हालत चिंताजनक बनी हुई थी एवं पुलिस-प्रशासन में हड़कम्प मचा हुआ है।