मथुरा में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, 12 बजे जन्मेंगे कन्हाई

0
184

मथुरा। योगीराज श्रीकृष्ण की नगरी एक बार फिर थोड़ी ही देर में अजन्मे के जन्म की साक्षी बनने जा रही है। श्रीकृष्ण के जन्म के संकेत मिलने के साथ ही शहनाई वादन आरंभ हो चुका है। मथुरा आए हजारों लाखों श्रद्धालु इस पल के गवाह बनने के लिए श्रीकृष्ण जन्मस्थान की ओर जाते दिखाई दे रहे हैं। भीड़ का यह रेला व्यवस्थित नजर आ रहा है। पुलिस बल भी व्यवस्थाएं बनाए रखने के लिए काफी प्रयास कर रहे हैं। मंदिरों में तैयारियां कान्हा का स्वागत करने के लिए तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। घरों को कान्हा के लिए सजाया गया है। लोगांे ने व्रत रखकर कृष्णा का अभिनंदन करने का प्रयास किया है।


आज 12 बजने के साथ ही श्रीकृष्ण जन्मस्थान घंटा घड़ियाल और शंखनाद की ध्वनि से गूंज उठेगा। क्योंकि 12 बजने के साथ ही श्रीकृष्ण जन्म लेंगे। उनके जन्म के साथ ही सिर्फ श्रीकृष्ण जन्मभूमि ही नहीं वरन् मथुरा के मंदिरों और घरों में भी घंटा बजने और शंखनाद की गूंज सुनाई देगी। इसके लिए कई दिन पूर्व तैयारियां कर ली गई थी। शनिवार को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी होने के कारण सुबह से ही महिलाएं और पुरुष घर और घर में बने मंदिरों को सजाने में लगे रहे। वहीं छोटे से लेकर बड़े मंदिरों को भव्य रुप से पताकाओं, गुब्बारों और तोरण से सजाया गया। भक्तों ने अपने कान्हा के लिए व्रत रखा। महिलाएं फलाहार के लिए पकवान आदि बनाती नजर आईं। वहीं शहर भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी को भव्य रुप देने के लिए सजाए गए चैराहे आकर्षण का केंद्र बने रहे। कई स्थानों पर सेल्फी प्वाइंट्स भी बनाए गए थे। यहां लोगों ने मोबाइल से सेल्फी खींचकर काफी आनंद लिया। पहली बार भव्य रुप से मनाई जा रही श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर शहर के इस आकर्षक रुप को देखकर बाहर से आने वाले श्रद्धालु भी काफी प्रसन्न नजर आए। उनका कहना था कि वह पहली बार मथुरा का यह भव्य रुप देख रहे हैं। उन्हें मथुरा आकर काफी अच्छा लग रहा है।


वहीं श्रीकृष्ण जन्मभूमि मंदिर में सुबह से ही श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। मंदिर में दर्शन करने के लिए उमड़ रही भीड़ पुलिस कर्मियों के लिए परेशानी का सबब बनी हुई है। सुरक्षा कर्मियों को भीड़ को संभालने के लिए काफी प्रयास करने पड़ रहे हैं। मंदिर में घुसने के बाद भक्तगण वहां से बाहर नहीं निकलना चाहते हैं। वह प्रयास कर रहे हैं कि रात्रि में 12 बजे के बाद कान्हा के जन्म लेने और उनके दर्शन करने के बाद ही वह मंदिर से बाहर निकलें। इसके चलते मंदिर के अंदर काफी भीड़ इकट्ठा हो गई और लोगों को परेशानी हो रही है। मंदिर के अंदर शहनाई वादन हो रहा है। ढोलक की थाप पर महिलाएं भजन कीर्तन कर रही हैं। मंदिर के अंदर एकत्रित श्रद्धालु थोड़ी ही देर में होने वाले कान्हा के जन्म के साक्षी बनने के लिए आतुर हो रहे हैं। उन्हें परवाह नहीं है कि मंदिर के अंदर उन्हें कितनी परेशानी हो रही है। गर्मी और भीड़ के चलते दिक्कत हो रही है लेकिन फिर भी खुशी है कि वह कृष्ण के जन्म के पल के गवाह बनेंगे। जैसे ही भगवान श्रीकृष्ण का जन्म होगा। चहुंओर हर्षोल्लास छा जाएगा।

सोशल मीडिया पर दी बधाई और शुभकामनाएं
सुबह होने के साथ ही श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की बधाई और शुभकामनाओं के संदेश सोशल मीडिया पर तैर रहे थे। व्हाट्स एप और फेसबुक पर लोगों ने एक दूसरे को कान्हा के जन्म की शुभकामनाएं दी। लोग श्रीकृष्ण के बधाई संदेश के साथ उन पर बने अन्य संदेशात्मक मैसेज भी शेयर करते हुए नजर आए। श्रीकृष्ण द्वारा गीता मंे कहे गए श्लोक और उनके हिंदी अनुवाद भी खूब शेयर किए गए।

इस बार रहा भंडारों का टोटा
शहर में इस बार प्रशासनिक मशीनरी की मनमानी के चलते भंडारों का टोटा रहा। स्टेट बैंक से लेकर जंक्शन रोड होते हुए भरतपुर गेट, डीग गेट से मसानी तिराहा तक भंडारों को परमीशन नहीं दी गई। क्योंकि इस मार्ग से होकर सीएम योगी को गुजरना था। वहीं इस बार शहर के अन्य हिस्सों में काफी कम ही भंडारे आयोजित किए गए। इसका कारण था कि इस बार सरकारी अफसरों ने भंडारांे को परमीशन देने के लिए नियमों को कड़ा कर दिया। नियम और सीएम का आगमन समाजसेवी संस्थाओं पर भारी पड़ा और भंडारा आयोजित नहीं हो सके। इससे श्रद्धालुओं को भी काफी परेशानी रही। हालांकि जिन भंडारों का आयोजन किया गया। वहां भक्तों ने प्रसाद पाकर संस्थाओं का गुणगान किया। भंडारों में सुबह से ही पूड़ी सब्जी का प्रसाद वितरित किया जा रहा था। कई भंडारा स्थल पर चाय-बिस्कुट, चाय-टोस्ट, चाय-मठरी आदि भी दी जा रही थी। इससे भी बाहरी श्रद्धालुओं को काफी राहत मिली। संस्थाओं द्वारा कई स्थानों पर प्याऊ की व्यवस्था की गई थी। ताकि लोगों को पीने के पानी के लिए न भटकना पड़े। कृष्णानगर में मनुहार फर्नीचर की ओर से भंडारा आयोजित किया गया। श्रीराधारानी रोटी कपड़ा बैंक के संस्थापक अध्यक्ष संजय पंडित अपनी पूरी टीम के साथ सेवाभाव से भंडारा में सहयोग करते नजर आए।