चर्चित रेपकाण्डः डीएम ने दिये डॉक्टरी परीक्षण बोर्ड गठन के आदेश, सीओ करेंगे जाँच

0
601

मथुरा। जनपद के चर्चित अश्लील वीडियो एवं रेप काण्ड की जांच जहां एसएसपी ने सीओ रिफाइनरी को सौंप दी है। वहीं जिलाधिकारी मथुरा ने रेप पीड़िता का मैडीकल तीन सदस्य बोर्ड से पुनः कराने के निर्देश सीएमओ मथुरा को दिये हैं।

कृषि फार्म अधीक्षक फरह डॉ. गोपाल सिंह द्वारा एक महिला को नशीला पदार्थ खिलाकर रेप कर अश्लील वीडियो वायरल करने तथा नाबालिग बेटी से अश्लील हरकत करने का मामला फरह थाने में 20 जुलाई 2019 को पीड़िता द्वारा दर्ज कराया गया था। जिसमें आरोप है कि कृषि अधीक्षक द्वारा वीडियो वायरल करने पर महिला के पति ने आत्महत्या कर ली। इस मामले में पुलिस कार्य प्रणाली को लेकर पीड़िता द्वारा मुख्यमंत्री आदि को पत्र लिखकर कार्यवाही की मांग की गई है। इस घटना का वायरल वीडियो एवं विशेष खबर ‘‘विषबाण’’ द्वारा 7 अगस्त को चलाई गई। बताते हैं कि पुलिस द्वारा आरोपी 15 दिन से अधिक दिन बाद भी गिरफ्तार नहीं किया गया। बल्कि डाक्टरी मुआयने में रेप की पुष्टि नहीं हो सकी। आरोप है कि कृषि अधिकारी ने डाक्टरी परीक्षण में खेल करा दिया गया।

डॉक्टरी परीक्षण में खेल किये जाने की शिकायत पीड़िता एवं परिवार द्वारा जिलाधिकारी से किये जाने पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन ने सीएमओ मथुरा को तीन सदस्यी बोर्ड का गठन कर पीड़िता का पुनः डाक्टरी परीक्षण करने के आदेश दिये हैं। जबकि दूसरी तरफ पीड़िता और नाबालिग बेटी ने आज शुक्रवार को परिजनों के साथ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर से मुलाकात कर आरोपी अधिकारी को गिरफ्तार करने की मांग की। जिस पर एसएसपी ने घटना की जांच सीओ रिफाइनरी को सौंपते हुए आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिये। इस सम्बन्ध में पीड़िता से सम्पर्क का प्रयास किया लेकिन सम्पर्क नहीं हो सका। पीड़िता के अधिवक्ता ठा. मदनगोपाल सिंह ने एसएसपी द्वारा सीओ को जांच सौंपने एवं जिलाधिकारी द्वारा पीड़िता का तीन सदस्यी बोर्ड से डॉक्टरी परीक्षण कराये जाने के आदेश की पुष्टि की है।

धर्म की नगरी में अय्याशी के गोते, सेक्स वीडियो हो रहे वायरल