धारा 370 हटने से देश में खुशी का माहौल, बंटी मिठाई

0
360

नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर से धारा 370 और अनुच्छेद 35ए हटाने की घोषणा करने के साथ ही पूरे देश में जश्न का माहौल उत्पन्न हो गया है। सोशल मीडिया पर लोग एक दूसरे को अलग-अलग तरह से बधाईयां दे रहे हैं। हर जगह, ऑफिस, कालेज, स्कूल, चौराहों आदि पर धारा 370 और 35ए की ही चर्चा हो रही है। वहीं इनके हटने पर लोग मिठाई बांट कर और आतिशबाजी कर खुशियां मना रहे हैं।
कुछ दिन पूर्व केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर में अचानक अतिरिक्त सैनिकों को भेजने का निर्णय लेते हुए वहां सैनिक भेज दिए थे। इसके बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी वहां गए थे। कुछ दिन पूर्व जब पर्यटकों और अमरनाथ यात्रियों को जम्मू कश्मीर छोड़ने का अल्टीमेटम दिया तो जम्मू कश्मीर में कुछ नया होने की सुगबुगाहट होने लगी। हर कोई यही सोच रहा था कि कश्मीर में कुछ नया होने जा रहा है लेकिन क्या। इसका अंदाजा किसी को नहीं था। कुछ नया होने का खुलासा तब हुआ जब आज दोपहर को 11 बजे गृहमंत्री अमित शाह द्वारा जम्मू कश्मीर से धारा 370 और अनुच्छेद 35ए हटाने की घोषणा की। यह घोषणा होते ही जहां जम्मू कश्मीर में सुरक्षा व्यवस्था चौकस हो गई। वहीं पूरे देश में हर्षोल्लास छा गया। सोशल मीडिया पर बधाई और शुभकामनाओं का दौर चल पड़ा। वहीं कई अलग अलग तरह से मैसेज बनाकर लोगों ने अपनी खुशियां जाहिर की। अति उत्साही युवकों ने प्रसन्नता में मिठाई बांट कर और आतिशबाजी कर इस मौके पर अपनी खुशियां अन्य लोगों के साथ साझा कीं।
मथुरा में भारतीय किसान यूनियन लोकशक्ति और करणी सेना के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने गोवर्धन चौराहा पर आतिश बाजी कर और मिठाई बांट कर खुशी मनाई। इस दौरान भाकियू लोकशक्ति के राष्ट्रीय प्रमुख महासचिव यशवीर सिंह राघव और भाकियू लोकशक्ति एवं करणी सेना के पश्चिमी उप्र के अध्यक्ष योगी ठाकुर ने कहा कि मोदी एवं अमित शाह द्वारा जम्मू कश्मीर को लेकर लिए गए निर्णय से पूरे देश में खुशी की लहर दौड़़ गई है। यह एक ऐतिहासिक निर्णय है। इससे जम्मू कश्मीर में काफी बदलाव आएगा। आतंकवाद का खात्मा करने में काफी मदद मिलेगी। इस दौरान ओमप्रकाश सिसौदिया, दिनेश राजावत, सतीश गूजर, भानुप्रताप सिंह, विकास यादव, सतवीर मास्टर, तिलकराम, ठाकुर विक्रम सिंह, कृष्णा ठाकुर, अनु पंडित, पुष्पेंद्र धनगर, योगेश सिकरवार, अरुण चौहान, पुष्पेंद्र सिंह आदि मौजूद रहे।