महंत बालमुकुंद हत्याकांडः 50 हजार का ईनामी उमेश मुठभेड़ में घायल, कार और बंदूक बरामद

0
525
घायल उमेश पाठक

मथुरा। वृंदावन के बहुचर्चित महंत बालमुकुंद हत्याकांड के मामले में फरार चल रहे 50 हजार के ईनामी मुख्य अभियुक्त उमेश पाठक को वृंदावन पुलिस ने मुठभेड़ के बाद गिर¬फ्तार कर लिया। उमेश पाठक के पैर में गोली लगी है। उसे उपचार के लिए वृंदावन स्थित सौ शैया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वृंदावन पुलिस ने उमेश पाठक से मृतक महंत की डस्टर कार, दोनाली बंदूक, चेकबुक, पासबुक, एक तमंचा और दो जिंदा कारतूस बरामद किया है।

फाइल फोटो

वृंदावन में अटल्ला चुंगी स्थित गोपाल बाग आश्रम के महंत बालमुकुंद शरण शास्त्री विगत 12 जून को अपने चालक उमेश पाठक के साथ घर से निकले थे। इसके बाद वह गायब हो गए थे। उनका चालक उमेश पाठक भी डस्टर कार एवं दोनाली बंदूक के साथ लापता हो गया था। इस मामले में महंत के समर्थक एवं परिजनों ने 28 जून को वृंदावन कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया था। 13 जून को महंत बालमुकुंद शरण शास्त्री का शव मांट क्षेत्र में अधजली अवस्था में मिला था लेकिन उस समय इसकी पहचान नहीं हो सकी थी। इस खबर को जुलाई माह में विषबाण ने प्रमुखता से महंत बालमुकुंद के फोटो के साथ प्रकाशित किया था। खबर के साथ लगे फोटो को देखकर सुधि पाठक ने पुलिस से मांट क्षेत्र में मिले शव को महंत बालमुकुंद से मिलता जुलता बताते हुए सूचना दी। पुलिस ने महंत के परिजनों को बुलाकर शव की शिनाख्त कराई तो वह महंत बालमुकुंद का ही निकला। इसके बाद मांट और वृंदावन पुलिस ने संयुक्त रुप से खुलासा करते हुए 3 लोगों को गिरफ्तार किया था। यह तीनों आपस में मां, बेटा और पुत्रवधू थे। वहीं मुख्य अभियुक्त ड्राईवर उमेश पाठक फरार चल रहा था। पुलिस के अनुसार उमेश पाठक एवं अन्य तीनों अभियुक्तों ने मिलकर महंत बालमुकुंद की हत्या आश्रम पर कब्जा करने एवं महंत की संपत्ति को हड़पने के लिए की थी।

गोपाल बाग आश्रम

खुलासे के बाद से ही पुलिस मुख्य आरोपी उमेश पाठक को गिरफ्तार करने की कोशिशों में थी। गुरुवार को वृंदावन पुलिस को सूचना मिली कि उमेश पाठक हाईवे पर है और कहीं भागने की फिराक में है। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस को देखकर उमेश पाठक ने भागने का प्रयास किया और हाईवे स्थित अनंतम सिटी के पीछे स्थित जंगलों की ओर भाग लिया। पुलिस को पीछा करते देख उमेश ने पुलिस पर फायर कर दिया। पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग करनी शुरु कर दी। मुठभेड़ में उमेश पाठक के पैर में गोली लगी। इससे वह घायल हो गया। पुलिस ने उमेश पाठक को उपचार के लिए वृंदावन स्थित सौ शैया अस्पताल में भर्ती कराया है। वृंदावन कोतवाल संजीव कुमार दुबे ने बताया कि उमेश पाठक को पुलिस काफी दिनों से तलाश कर रही थी। सूचना पर उमेश पाठक को मुठभेड़ में पकड़ा है। उसके दाहिने पैर में गोली लगी है। बताया कि उमेश से बाबा बालमुकुंद की डस्टर कार, दोनाली बंदूक, चेकबुक, पास बुक, एक तमंचा और 2 जिंदा कारतूस बरामद किए गए हैं। बताया कि आरोपी उमेश पाठक पर 50 हजार का इनाम घोषित था।
वहीं कुछ स्थानीय लोग अभी भी पुलिस द्वारा किए गए खुलासे पर सवाल खड़े कर रहे हैं। चर्चा है कि पुलिस ने इस मामले में सफेदपोश लोगों को बचाते हुए सिर्फ मोहरों को ही गिरफ्तार किया है क्यांकि इस मामले में कई बड़े लोगां का हाथ है। जो कि आश्रम पर कब्जा कर इस करोड़ों की जमीन को खुर्द बुर्द करना चाहते हैं। आश्रम पर फिलहाल कुछ ऐसे लोगों का कब्जा है जो कि किसी भी व्यक्ति को आश्रम में प्रवेश नहीं करने दे रहे हैं। इससे भी लग रहा है कि आश्रम पर कब्जा हो चुका है।