गंगा जल से भरे जाएंगे जनपद के गांव के तालाबः सिंचाई मत्री

0
287

मथुरा। देश की संपदा सोना, चांदी नहीं, धरती और नदियां हैं। जब किसानों को भरपूर मात्रा में पानी उपलब्ध होगा तो देश में एक हरितक्रान्ति का दौर आयेगा और सभी किसान खुशहाल होंगे, जब किसान खुशहाल होगा तो देश भी विकास की ओर अग्रसारित होकर नयी-नयी उपलब्धियां प्राप्त करेगा।
यह विचार सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने कलेक्ट्रेट सभागार में अधिकारियों के साथ बैठक लेते हुए व्यक्त किये। कहा कि मथुरा के अन्दर 1100 नये तालाबों का निर्माण किया जा रहा हैं। इन तालाबों को भरने के लिए ऐसी योजना बनायी जायेगी। जिससे यह तालाब गंगा के शुद्ध पानी से भरे जाएं, जिसके लिए उत्तराखण्ड सरकार से वार्ता करके टिहरी बांध से अतिरिक्त पानी लिया जायेगा। बताया कि जो नदियां प्रदेश में विलुप्त हो गयी हैं, उनकी खुदाई एवं उनको पुर्नजीवित करने के लिए कार्यवाही की जा रही है। इसी प्रकार नदियों की सफाई के लिए भी योजना बनाकर कार्यवाही की जा रही है। श्री सिंह ने कहा कि किसानों को पर्याप्त मात्रा में पानी पहुंचाना एवं किसानों की आमदनी को दुगुना करने की सरकार की मंशा है और वह इस पर निरंतर कार्य कर रही है। उन्होंने सिंचाई विभाग के अधिकारियों से कहा कि प्रत्येक दशा में नहरों के टेल तक पानी पहुंचे। उन्होंने नहर विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि प्रतिवर्ष 15 जून तक सभी नहरों की सफाई करा लेनी चाहिए, जिससे किसानों को पानी समय पर उपलब्ध रहे।
म्ांत्री जी ने सभी अधिकारियों से कहा कि वह एक सप्ताह के अन्दर अपने सभी लैण्डलाइन फोन को ठीक करा लें, जिससे उन पर लैण्डलाइन पर वार्ता हो सके तथा यह भी जानकारी हो सके कि अधिकारी अपने कार्यालय में उपस्थित है। उन्होंने जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र ने निर्देश दिये कि वह सिंचाई विभाग से संबंधित सभी अधिकारियों से लैण्डलाइन फोन पर वार्ता करके फोन तथा अधिकारियों की स्थिति की निरंतर समीक्षा करते रहें। कहा कि वर्तमान में पानी अधिक मात्रा में उपलब्ध नहीं है, यदि हमने समय रहते पानी का ध्यान नहीं दिया तो पानी के संकट हमारे प्रदेश में भी पैदा हो जायेगा, इसके लिए बरसात का पानी संचय करना आवश्यक है। कहा कि किसान खेत तालाब योजना के तहत अपनी खेतों में तालाबों का निर्माण करायें तथा खेत की मेड़ों को ऊंचा रखें। साथ ही ऐसी व्यवस्था बनायी जाये कि गांव का पानी गांव के बाहर न जाये। उन्होंने ड्रेनेज के पानी को तालाबों एवं पोखरों से अलग रखने के लिए निर्देश दिये।
जिलाधिकारी श्री सर्वज्ञराम मिश्र ने बताया कि जर्मन सरकार के सहयोग से खारे जल को मीठा करने हेतु योजना बनाकर कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने बताया कि पहले चरण में दो ब्लॉकों में कार्यवाही जा रही है, जिसमें नहर का पानी साफ करके तालाबों को मीठे पानी से भरवाया जा रहा है, जिससे उसके आस-पास क्षेत्र का खारा पानी मीठा हो सके। बैठक में विधायक बल्देव पूरन प्रकाश, गोवर्धन ठा. कारिन्दा सिंह, ब्लॉक प्रमुख बल्देव राजपाल एवं मथुरा प्रतिनिधि पन्नालाल, एसएसपी शलभ माथुर, मुख्य विकास अधिकारी रामनेवास, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व बृजेश कुमार, परियोजना निदेशक ग्राम्य विकास अभिकरण रवि किशोर त्रिवेदी, मुख्य अभियंता सिंचाई यमुना अनिल कुमार सहित अन्य संबंधित अधिकारीगण उपस्थित थे।