विवादों में फंसा राधारानी कैंटीन निर्माण, कोर्ट ने थमाए अफसरों को नोटिस

0
602

मथुरा। बरसाना स्थित श्रीराधारानी मंदिर की पहाड़ियों पर उप्र ब्रज तीर्थ विकास परिषद् द्वारा कराया जा रहा कैंटीन का निर्माण विवादों में फंस गया है। आरोप है कि कैंटीन का निर्माण मानकों के अनुरुप निर्धारित स्थान होने के बजाय दूसरे स्थान पर हो रहा है। साथ ही इसके निर्माण के लिए हरे भरे पेड़ों और शिलाओं को भी नुकसान पहुंचाया जा रहा है। शिकायतों के बाद भी निर्माण कार्य न रोके जाने के बाद मामला अब कोर्ट के पाले में है। गत दिवस कोर्ट कमीशन ने बरसाना जाकर कैंटीन निर्माण स्थल पर जांच भी की। साथ ही अफसरों को नोटिस भी भेजे गए हैं।

श्रीजी मंदिर की पहाड़ियां

बरसाना के श्रीजी मंदिर पर वर्तमान में श्रद्धालुओं के खानपान आदि की कोई व्यवस्था नहीं है। इसे ध्यान में रखते हुए उप्र ब्रज विकास तीर्थ परिषद् द्वारा यहां कैंटीन का निर्माण कराने का प्रस्ताव रखा गया। प्रस्ताव को सरकार ने अनुमोदित करते हुए इसके लिए धनराशि भी जारी कर दी। टेंडर आदि की प्रक्रिया पूरी होने के बाद कैंटीन का निर्माण मथुरा वृंदावन विकास प्राधिकरण द्वारा आरंभ करा दिया गया है। कैंटीन का निर्माण शुरु होने के साथ ही यहां विवाद खड़ा हो गया है। आरोप है कि कैंटीन का निर्माण निर्धारित स्थान पर होने की जगह अन्य स्थान पर कराया जा रहा है। साथ ही निर्माण के लिए हरे भरे पेड़ों को बिना अनुमति के ही काटा जा रहा है। साथ ही प्राचीन शिलाओं को भी नुकसान पहुंचाया जा रहा है। ताकि कैंटीन निर्माण में दिक्कत न आए। इसकी शिकायत शासन में की गई है। शिकायतकर्ता भरत सिंह एडवोकेट ने बताया कि कैंटीन का निर्माण श्रीजी मंदिर से लगकर होना था लेकिन इसका निर्माण वहां न होकर जयपुर मंदिर और श्रीजी मंदिर के बीच में अन्यत्र स्थान पर हो रहा है। इसके निर्माण के लिए बिना अनुमति के ही हरे भरे पेड़ों को काटकर पर्यावरण को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। वहीं प्राचीन शिलाओं को भी काटा जा रहा है। इससे आस्था को भी चोट पहुंच रही है। बताया कि शासन के साथ साथ इस मामले को कोर्ट में भी रखा गया है। कोर्ट ने याचिका को स्वीकारते हुए वादी से विरोधी पार्टियों को सम्मन जारी करने के लिए गजट प्रकाशित कराने के लिए निर्देश दिए थे। यह गजट प्रकाशित कराया जा चुका है। बताया कि कोर्ट ने ब्रज विकास तीर्थ विकास ट्रस्ट के उपाध्यक्ष, कार्यपालक अधिकारी, डीएम, एमवीडीए उपाध्यक्ष सहित 6 लोगां को नोटिस जारी किए है। साथ ही गत दिवस सोमचार को कोर्ट कमीशन ने बरसाना में बन रही कैंटीन के निर्माण स्थल पर आकर इसकी जांच भी की थी। नक्शा भी बनाया गया है। इसे कोर्ट में पेश किया जाएगा। कहा कि इस लड़ाई को हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक जारी रखेंगे। बताया कि उप्र ब्रज तीर्थ विकास परिषद् के सचिव शैलजाकांत मिश्र ने भी कैंटीन का निर्माण स्थल उसी स्थान पर बताया है जहां के लिए अनुमति ली गई है लेकिन निर्माण किसी अन्यत्र स्थान पर हो रहा है। बताया कि कैंटीन का निर्माण दिन रात पुलिस की निगरानी में चल रहा है। देखना होगा कि यह विवाद थमता है अथवा कोई नया रुप लेता है।