शिक्षक चला रहे मोबाइल, बच्चे भर रहे पानी और लगा रहे झाड़ू

0
377

राया प्रदेश सरकार शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए चाहे कितने भी वादे करें। लेकिन शिक्षको की मनमानी के चलते शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार आने की संभावना दिखाई नहीं दे रही है। तो अभी हाल ही में जिलाधिकारी मथुरा सर्वज्ञराम मिश्र द्वारा प्राथमिक बिद्यालयो का औचक निरीक्षण किया था जिसमे कुछ बिद्यालय समयावधि से पूर्व ही अवकाश किये जाने पर शिक्षकों के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया गया तो वही आज गुरुवार को ऐसा ही एक मामला देखने को मिला विकास खण्ड माट क्षेत्र के गांव सूरज के प्राथमिक विद्यालय में जहां बच्चे विद्यालय में झाड़ू लगा रहे थे। वही नन्हे मुन्ने बच्चे पानी भर कर ले जा रहे थे।
जब इस बारे में विद्यालय की प्रधानाध्यापिका से बात की गई तो उन्होंने बताया झाड़ू लगा रही बच्ची का अभी 3 दिन पूर्व ही एडमिशन होने की बात कहकर उन्होंने पल्ला झाड़ लिया और कहा कि मेरे बिना पूछे ही यह कार्य कर रहे थे। मेरे द्वारा किसी भी बच्चे को इस तरह का कार्य करने की बात किसी बच्चे से नहीं कही है।
जबकि विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों ने स्वयं बताया कि बड़ी मैडम के आदेश पर ही हम यह कार्य कर रहे हैं।

तैनाती के बाद भी बिद्यालय में दिखी गंदगी सफाई कर्मचारी नदारद
एक तरफ जहां देश के प्रधानमंत्री मंत्री स्वच्छ भारत अभियान के तहत अभियान चलाकर लोगो को स्वछता के प्रति जागरूक करने में लगे हुए है तो वही विकासखण्ड मांट के गांव सूरज के प्राथमिक विद्यालय में सफाई कर्मचारी की तैनाती होने के बाद भी यहां छात्रों से सफाई कराई जा रही है बिद्यालय की प्रधानाध्यापिका ने बताया सफाई कर्मचारी तो यहां कभी आता ही नही स्वयं ही सफाई करनी पड़ती है वही उन्होंने बताया