भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) में घमासान, चुनाव पर ब्रेक

0
874

मथुरा। किसान हितों के संघर्ष करने वाली भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) में जनपद स्तर पर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी विवाद के चलते 12 जुलाई को होने वाली कार्यकारिणी का गठन रोक दिया गया। यूनियन के कुछ पदाधिकारियों ने जिलाध्यक्ष पर मनमर्जी से कार्यकारिणी चुनने, अपने रिश्तेदारों को कार्यकारिणी में महत्वपूर्ण पद देने के आरोप लगाए हैं। इसकी शिकायत प्रदेश अध्यक्ष से भी की गई है।
भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) के मांट तहसील के महासचिव रोहिताश चौधरी ने जिलाध्यक्ष राजकुमार तोमर पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। रोहिताश चौधरी का आरोप है कि जिलाध्यक्ष राजकुमार तोमर द्वारा जो कार्यकारिणी सूची तैयार की गई है इसमें 80 प्रतिशत नए व्यक्ति और 20 प्रतिशत पुराने कार्यकर्ताओं को शामिल किया गया है। नए लोगों में जिलाध्यक्ष के अपने रिश्तेदार, मित्र, मिलने-जुलने वाले लोग हैं। इनमें कुछ आपराधिक प्रवृत्ति के लोग भी शामिल हैं। जिन्हें जिम्मेदारी दी जा रही है। रोहिताश चौधरी का कहना है कि यह ऐसे लोग हैं जो जिलाध्यक्ष के कहने पर चलेंगे। यदि कभी हाईकमान द्वारा राजकुमार तोमर को जिलाध्यक्ष पद से हटाया जाता है तो यह लोग भी जिम्मेदारी से विरत होकर संगठन छोड़ देंगे। ऐसे में मथुरा जनपद में संगठन लगभग समाप्त होने के कगार पर पहुंच जाएगा और संगठन को फिर से खड़ा करने में फिर काफी मेहनत करनी पड़ेगी। कुछ ऐसे लोगों को भी पदाधिकारी बनाया जा रहा है जिन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश टिकैत के सामने मांट टोल प्लाजा बाबा टिकैत की टोपियों को फेंक कर यूनियन को छोड़ दिया गया था। ऐसे लोग भी शामिल किए जा रहे हैं जो कि कभी मीटिंग में नहीं आते, आते भी हैं तो यूनियन का बिल्ला-बैज लगाने में शर्म महसूस करते हैं। जिला महासचिव पद पर देवेंद्र सिंह रघुवंशी को नियुक्त किए जाने पर भी सवाल उठाए हैं। उक्त आरोप लगाते हुए रोहिताश चौधरी ने प्रदेश अध्यक्ष राजवीर सिंह जादौन से शिकायत कर जांच की मांग की गई है। जिलाध्यक्ष राजकुमार तोमर ने बताया कि कार्यकारिणी को लेकर किसी प्रकार का कोई विवाद नहीं है लेकिन जिलाध्यक्ष को कार्यकारिणी गठित करने का पूर्ण अधिकार है। प्रदेश अध्यक्ष राजवीर सिंह जादौन से वार्ता कर उनका पक्ष जानने का प्रयास किया लेकिन उनसे बात नहीं हो सकी। विषबाण ने प्रदेश उपाध्यक्ष बुद्धा सिंह प्रधान से वार्ता की तो उन्होंने बताया कि हर संगठन में आपसी मतभेद होते हैं। संगठन में किसी को मनमानी करने का अधिकार नहीं दिया गया है। पुराने कार्यकर्ताओं का सम्मान रखा जाएगा और आपसी मतभेदों को दूर किया जाएगा। मंडल अध्यक्ष गजेंद्र सिंह परिहार ने बताया कि जिला कार्यकारणी को लेकर कोई विवाद नहीं है अगर जिला अध्यक्ष या किसी पदाधिकारी के मध्य कोई मतभेद हैं तो उन्हें आपस में बैठकर निपटाया जायेगा। यह किसानों का संगठन है जो उनके हितों के लिए लढ़ाई लड़ता है।