जायंट्स की अश्लील पार्टी को लेकर मचा हंगामा

0
9858

मथुरा। जनपद में समाज के उत्थान के नाम पर बडे़ पैमाने पर कुकुरमुत्तों की तरह फल-फूल रहे सामाजिक संगठन और क्लब किस तरह सामाजिक मर्यादाओं को तार-तार कर रहे हैं। इसका सच पूर्व में भी कई बार सामने आ चुका है। लेकिन वर्तमान में एक और उदाहरण सामने आया है। शहर के जायंट्स गु्रप ऑफ मथुरा द्वारा आगरा में पारिवारिक कार्यक्रम के नाम आयोजित पूल और पाकीजा पार्टी के नाम पर जमकर अश्लीलता परोसी गई। सुरा-सुंदरी का दौर चला। जब पूर्व अध्यक्ष ने इसका विरोध किया तो उन्हें पार्टी से बाहर निकाल दिया गया। पूर्व अध्यक्ष ने गु्रप के अध्यक्ष सहित अन्य लोगों पर मानहानि का केस दायर कर दिया है। साथ ही पार्टी आयोजित करने वाले जिम्मेदार पदाधिकारियों से इस्तीफा की मांग की है।
जायंट्स ग्रुप ऑफ़ मथुरा के पूर्व अध्यक्ष आशुतोष गर्ग ने प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि संस्था द्वारा 4 जून को आगरा के पंच सितारा होटल में पारिवारिक कार्यक्रम के नाम पर पाकीज़ा/ पूल पार्टी का आयोजन किया गया था। इस पार्टी में अश्लीलता का नंगा नाच हुआ था। पार्टी में जो कुछ भी हुआ, उसकी वीडियो सोशल साइट्स पर वायरल हो गई। वीडियो में मथुरा के रईस कारोबारी बालाओं के साथ ठुमके लगाते हुए और बालाआें पर नोट उड़ाते हुए दिख रहे हैं। जबकि पार्टी में महिलाएं और बच्चे भी पार्टी में मौजूद थे। कहा कि उन्होंने पार्टी में इस अश्लीलता का विरोध किया तो उन्हें पार्टी कार्यक्रम से बाहर निकलने के लिए कह दिया गया। जबकि सभी जानते हैं कि जायंट्स इंटरनेशनल का गठन समाज सेवा व गरीबों की सहायता के लिए किया गया था। जायंट्स ग्रुप ऑफ़ मथुरा ने अब तक समाज सेवा के तमाम उल्लेखनीय कार्य किए हैं। इससे समाज में जायंट्स ग्रुप व इससे जुड़े सदस्य व पदाधिकारियों की सम्मानजनक छवि रही है। जनपद के तमाम प्रतिष्ठित परिवारों के संभ्रांत लोग इस ग्रुप से जुड़कर खुद को गौरवान्वित महसूस करते रहे हैं। परंतु संस्था की 40 वर्षीय पुरानी गौरवशाली परंपरा को वर्तमान अध्यक्ष केवलराम चंदानी एवं उनकी टीम जिसमें संजीव वर्मा, अनिल खंडेलवाल, मनीष गर्ग, तरुण अग्रवाल, मनमोहन गुप्ता, उमेश जुगसना, पंकज गोयल, मनीष गुडेरा वाला, प्रमोद खंडेलवाल आदि द्वारा आगरा में पूल पार्टी के नाम पर सुरा और सुंदरी के अर्धनग्न प्रदर्शन करने वाले आयोजन से भारी क्षति पहुंचाई है।

बताया कि पार्टी कार्यक्रम का विरोध करने पर उन्हें पुराने खयालात का बताते हुए सार्वजनिक रूप से बेइज्जत कर वहां से चले जाने को कहा गया। इससे व्यक्तिगत रूप से भी मेरी सामाजिक छवि धूमिल हुई। बताया कि इसकी शिकायत उन्होंने जायंट्स इंटरनेशनल से भी की थी। इसके चलते वर्तमान बोर्ड को जांच होने तक भंग कर दिया गया। आशुतोष गर्ग ने बताया कि उन्होंने एक मानहानि का नोटिस भी 20 जून को अध्यक्ष केवल रामचंदानी व प्रशासनिक निदेशक संजीव वर्मा को दिया है। उन्होंने इस अश्लील व असामाजिक आयोजन के जिम्मेदार अध्यक्ष केवल रामचंदानी व उनकी समस्त टीम से अपने-अपने पदों से इस्तीफा और सार्वजनिक रूप से माफी मांगने की मांग की है। साथ ही प्रशासन से भी ऐसे ग्रुपों को प्रतिबंधित कर आयोजकों को गिरफ्तार करने का अनुरोध किया है।
वहीं संस्था अध्यक्ष केवलराम चंदानी ने विषबाण को बताया कि संस्था के द्वारा आयोजित पार्टी कार्यक्रम रात्रि 11 बजे ही समाप्त हो गया था। इसके बाद पूर्व अध्यक्ष आशुतोष गर्ग ने अपने संबंधों के दम पर डांस कार्यक्रम आयोजित कराया। फिर कार्यक्रम में किनारे बैठकर गलत सोच के चलते इस कार्यक्रम की वीडियो और फोटो ले ली। इसके बाद जायंट्स इंटरनेशनल में इसकी शिकायत कर दी। विश्व उपाध्यक्ष एसपी चतुर्वेदी ने प्रकरण की जांच की। जांच में हमें क्लीन चिट देते हुए वर्तमान बोर्ड बहाल कर दिया गया। इसके साथ ही जायंट्स इंटरनेशनल ने आशुतोष गर्ग के खिलाफ कार्यवाही करने के निर्देश दिए। बोर्ड द्वारा 23 जून को स्थानीय होटल में आयोजित बैठक में आम सहमति से आशुतोष गर्ग को निष्कासित कर दिया गया। बताया कि संस्था के ही एक सदस्य पीयूष जैन के साथ इनका मनमुटाव हो गया था।