योगीजी- आखिर भाजपा नेताओं ने कब्जा ही ली ब्लैक स्टोन कालेज की जमीन

0
1058

मथुरा। उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भले ही माफियाओं-अपराधियों के खिलाफ सख्त अभियान चलाने के निर्देश दे रहे हों। लेकिन मथुरा में अफसरों और भाजपा नेताओं का गठजोड़ सरकारी विद्यालयों की जमीनों पर कब्जा करने में लगा हुआ है। पीड़ित शासन से शिकायत दर शिकायत कर रहे हैं लेकिन कार्यवाही न होने के चलते भूमाफियाओं के हौसले बुलंद हैं। वहीं भाजपा के अन्य कद्दावर नेता जमीनों पर कब्जा करने के अलावा अन्य गैर कानूनी कार्यां में भी लिप्त हैं। इसका खुलासा पूर्व में पुलिस कार्यवाही के माध्यम से हो चुका है।
मथुरा शहर स्थित कृष्णापुरी चौराहा पर ब्लैक स्टोन गर्ल्स इंटर कालेज की बेशकीमती जमीन पर अवैध कब्जा इन दिनों शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है। यह जमीन करोड़ों की है लेकिन मिशनरी चर्च की है। इस जमीन को न तो बेचा जा सकता है, न ही किराए पर और न ही लीज पर दिया जा सकता है। कालेज प्रबंधक ने फिर भी इस जमीन को मात्र 83 लाख रुपए में बेच दिया। लेकिन इस रुपए को विद्यालय के खाते में जमा नहीं कराया गया। शिकायत हुई तो प्रबंधक के खिलाफ जांच में आरोप सिद्ध हो गए और बेचने-खरीदने वाले के खिलाफ कार्यवाही के आदेश हुए लेकिन सिर्फ हवा हवाई ही रह गए। हाल ही में कालेज की जमीन पर निर्माण आरंभ हो गया। बताते हैं कि इस जमीन को वर्षां पहले भूमाफियाओं द्वारा खरीदा गया था लेकिन यह भूमाफिया बसपा और सपा सरकारों में इस पर कब्जा नहीं पा सके लेकिन भाजपा सरकार आते ही इन्हें यह सरकार रास आ गई और आसानी से इस पर कब्जा हो गया है। जमीन पर बाउंड्रीवॉल कराकर गेट लगा दिया गया है। साथ ही ऑफिस बनाने के लिए एक कमरा भी बना दिया गया है।

इस जमीन को खरीदने वाले लोगों में कस्बा बलदेव के भाजपा नेताओं के नाम सामने आए हैं। जिनमें से एक खरीदार तो भाजपा का पूर्व जिला मंत्री बताया जा रहा है। दूसरा नेता भाजपा की प्रदेश कार्यकारिणी का पूर्व सदस्य बताया गया है जोकि बलदेव नगर पंचायत से नगर पंचायत अध्यक्ष का चुनाव भी लड़ चुका है। जबकि उक्त कार्यसमिति सदस्य द्वारा मेथोडिस्ट अस्पताल की जमीन की खरीद-फरोख्त भी की गई थी। इन नेताओं द्वारा कस्बा बलदेव में भी कीमती और विवादित जमीनों पर अपने नजदीकी लोगों के नाम से खरीदवाकर कब्जा किया गया है। जमीन के इस अवैध कारोबार में बलदेव के ही राजू पांडेय नामक युवक की हत्या हो चुकी है। बताते हैं कि भूमाफियाओं द्वारा कुछ जमीनें राजू के नाम कराई गई थीं। सूत्रों का दावा यह भी है कि ब्लैक स्टोन गर्ल्स इंटर कालेज की बेशकीमती जमीन मामले में प्रदेश के एक कद्दावर मंत्री के परिजनों को भी पर्दे के पीछे से हिस्सा बनाया गया है। यह भी दावा है कि एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी द्वारा करोड़ों का खेल खेला गया है। देखना होगा कि क्या भूमाफियाओं के खिलाफ कोई कार्यवाही होगी और कालेज की जमीन कब्जा मुक्त हो सकेगी अथवा नहीं।

योगीराज में भाजपा नेताओं के बुलंद हौसलों का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पिछले दिनों भाजपा का पूर्व जिला मंत्री भूपेंद्र चौधरी, पूर्व जिला मंत्री विनोद शर्मा ‘प्रधान’ को पुलिस ने क्रिकेट के सट्टे के कारोबार को संचालित करने के जुर्म में जेल भेज चुकी है। इन सटोरियों को छुड़ाने के लिए भाजपा नेताओं ने काफी प्रयास किए थे लेकिन सफल नहीं हो सके। इसी तरह अब ब्लैक स्टोन गर्ल्स इंटर कालेज की जमीन के मामले में भी भाजपा के ही पूर्व जिला मंत्री के नाम सामने आ रहा है।

मथुरा में भूमाफियाओं पर नहीं होती कार्यवाही
प्रदेश में सरकार बनाने के साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भले ही भूमाफियाओं को चिन्हित करने का आदेश जारी कर दिया हो। इस आदेश को भले ही काफी समय बीत चुका हो लेकिन मथुरा में प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा भूमाफियाओं को चिन्हित करने का आदेश फाइलों में दबा रहा। दबाव पड़ा तो अंजान लोगों को भूमाफिया बना दिया गया जबकि असल भूमाफियाओं के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हुई। यहां तक कि मुकुंद रिसोर्ट के स्वामी विनोद गर्ग कसेरे के खिलाफ एसडीएम सदर का्रंति शेखर सिंह द्वारा जारी किए गए आदेश के तहत कोई कार्यवाही नहीं हो सकी। जबकि एसडीएम सदर ने विनोद गर्ग कसेरे को भूमाफिया बताते हुए कार्यवाही के लिए संस्तुति की थी लेकिन यह आदेश भी धूल फांक रहा है।