ब्लैक स्टोन अवैध निर्माण में पूर्व कंट्रोलर पर गिरी गाज, होगी जांच, नया कंट्रोलर नियुक्त

0
390

मथुरा। ब्लैक स्टोन गर्ल्स इंटर कालेज में प्राधिकृत नियंत्रक और प्रबंधक नियुक्त करने का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस मामले में जेडी आगरा के फंसने के बाद भी यह मामला फिलहाल चर्चाओं में बना हुआ है। जेडी आगरा ने एक बार फिर प्रबंधक नियुक्त करने के अपने आदेश को निरस्त करते हुए नए प्राधिकृत नियंत्रक की नियुक्ति कर दी है। साथ ही प्रधानाचार्य के पति को कालेज के मामलों में दखल देने की शिकायत मिलने पर कालेज में प्रवेश पर रोक लगा दी है। वहीं पूर्व प्राधिकृत नियंत्रक के खिलाफ भी जांच बिठा दी है। जेडी आगरा के नए आदेश ने कालेज प्रधानाचार्या, पूर्व प्राधिकृत नियंत्रक सहित अन्य में खलबली मचा दी है।
ब्लैक स्टोन गर्ल्स इंटर कालेज बीते काफी समय से विवादों में घिरा रहा है। हाल ही एक बार फिर उस समय विवादों में आ गया जब अचानक ही कालेज की बेशकीमती जमीन पर दीवार का निर्माण होने लगा। पहले तो कालेज प्रधानाचार्या इसे कालेज द्वारा कराया जा रहा निर्माण बताती रहीं। जब बात बढ़ी तो उन्होंने स्वयं ही डीआईओएस से इसकी शिकायत की। डीआईओएस ने मामले की जांच के लिए प्राधिकृत नियंत्रक प्रमोद कुमार को जांच सौंप दी। प्रमोद कुमार जांच में कुछ कर पाते तब तक किन्हीं कारणों से जेडी आगरा ने प्राधिकृत नियंत्रक नियुक्त करने के अपने आदेश को निरस्त करते हुए प्रबंधक की नियुक्ति कर दी। प्रबंधक की नियुक्ति होने के बाद कालेज में प्रधानाचार्या के गुट ने पैरवी करते हुए शासन में इस आदेश के खिलाफ शिकायत कर दी। शासन ने शिक्षा निदेशक को आदेश देते हुए जेडी आगरा के खिलाफ ही जांच के आदेश देते हुए उनसे स्पष्टीकरण मांग लिया।

जेडी आगरा ने एक नया आदेश 21 जून को जारी कर दिया। आदेश के तहत उन्होंने कालेज में प्रबंधक की नियुक्ति को निरस्त कर दिया। अब एक बार फिर से कालेज में प्राधिकृत नियंत्रक की नियुक्ति की गई है लेकिन पूर्व प्राधिकृत नियंत्रक प्रमोद कुमार को यह जिम्मेदारी नहीं दी गई है वरन् अब राजकीय उमा विद्यालय विबावली के प्रधानाचार्य संदेश कुमार को प्राधिकृत नियंत्रक बनाया गया है। अपने दायित्वों का निर्वहन भली भांति न करने पर पूर्व प्राधिकृत नियंत्रक के खिलाफ जांच बिठा दी गई है। तत्कालीन प्राधिकृत नियंत्रक प्रमोद कुमार पर लगे अनियमितताओं और अवैध निर्माण में इनकी संलिप्तता के आरोपों की जांच स्वयं डीआईओएस मथुरा जांच करेंगे। वहीं कालेज के विभिन्न गंभीर मामलों में खुलकर दखल दे रहे प्रधानाचार्या रश्मि सिंह के पति रवि कुमार शर्मा के कालेज प्रांगण में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाते हुए विद्यालय संचालन में किए जा रहे हस्तक्षेप पर रोक लगाने के लिए डीआईओएस को आदेशित किया है। प्राधिकृत नियंत्रक संदेश कुमार ने सोमवार को कालेज पहुंचकर अपना चार्ज ले लिया। उन्होंने जमीन पर हो रहे अवैध निर्माण को रोकने की चेतावनी भी जमीन पर मौजूद सुरक्षा गार्ड को दे दी। संयुक्त शिक्षा निदेशक आगरा के इस आदेश से कालेज की जमीन पर हो रहे अवैध निर्माण को रोकने का प्रयास कर रही क्रिश्चियन वेलफेयर सोसायटी सहित अन्य लोगों को काफी राहत मिली है। सोसायटी के पदाधिकारियों ने इसके लिए जेडी आगरा को धन्यवाद ज्ञापित किया है।
डीआईओएस केपी सिंह ने बताया कि जेडी आगरा द्वारा भेजा गया आदेश उन्हें प्राप्त हो चुका है। संदेश कुमार को कंट्रोलर बना दिया गया है। पूर्व कंट्रोलर प्रमोद कुमार के खिलाफ जांच करने के आदेश का पालन किया जाएगा। कहा कि कालेज प्रांगण में प्रधानाचार्या के पति रवि कुमार शर्मा का प्रवेश जेडी आगरा सर ने प्रतिबंधित कर दिया है। अतः उन्हें कालेज में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा।
नवनियुक्त कंट्रोलर संदेश कुमार ने विषबाण को फोन पर बताया कि उन्होंने ज्वाइन तो कर लिया है लेकिन फिलहाल उनके हस्ताक्षर प्रमाणित नहीं हुए हैं। कहा कि कालेज की जमीन पर हो रहे अवैध निर्माण को रुकवाया जाएगा। इसके लिए प्रधानाचार्या को भी पत्र लिखकर आदेशित करते हुए आख्या मांगी गई है। आरोपी कंट्रोलर प्रमोद कुमार ने बताया कि उन्हें अपने खिलाफ जांच कराए जाने की जानकारी मिल गई है। वह जांच के दौरान अधिकारियों के समक्ष अपना पक्ष रखेंगे। अवैध निर्माण में उनकी कोई संलिप्तता नहीं है।