बीमा कंपनी को उपभोक्ता फोरम का झटका, देने होंगे सात लाख

0
176

मथुरा। एक ट्रक स्वामी को उसके ट्रक में नुकसान होने पर बीमा कंपनी द्वारा इंश्योरेंस होने के बाद भी नुकसान की भरपाई न करना महंगा पड़ा। जिला उपभोक्ता फोरम ने बीमा कंपनी को आदेशित किया है कि वह ट्रक स्वामी को होने वाले नुकसान की क्षतिपूर्ति करते हुए सात लाख रुपए का भुगतान छह प्रतिशत वार्षिक ब्याज की दर से करे।

थाना हाइवे अंतर्गत चंदनवन निवासी विनय कुमार तोमर पुत्र सत्यवीर सिंह ने जिला उपभोक्ता फोरम में एक वाद दायर किया था। दायर याचिका में उन्होंने बताया कि उनका एक ट्रक नंबर आरजे 11 जीए 1200 वर्ष 2012 में 29 अक्टूबर को मध्य प्रदेश के जिला धार में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। दुर्घटना में ट्रक खाई में गिर गया और जलकर पूरी तरह नष्ट हो गया। घटना के समय ट्रक इफको टोकियो जनरल इंश्योरेंस कंपनी द्वारा बीमित था। घटना के बाद बीमा कंपनी के सर्वेयर द्वारा घटनास्थल और जले हुए ट्रक का निरीक्षण भी किया। इसके बाद भी बीमा कंपनी ने नुकसान की क्षतिपूर्ति नहीं की। पीड़ित द्वारा नोटिस देने के बाद भी बीमा कंपनी द्वारा कोई जवाब नहीं दिया गया। इस पर उपभोक्ता फोरम में वाद दायर किया गया। जिला उपभोक्ता फोरम में बीमा कंपनी ने अपना पक्ष रखते हुए बताया कि जिस ट्रक का बीमा उनकी कंपनी से था वह ट्रक दुर्घटनाग्रस्त होने वाला ट्रक नहीं था। इसके चलते ही नुकसान की भरपाई नहीं की गई।

जिला उपभोक्ता फोरम ने दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद निर्णय दिया कि बीमा कंपनी अपने पक्ष में करने वाले दावे का कोई साक्ष्य प्रस्तुत नहीं कर सकी। अतः बीमा कंपनी को आदेशित किया जाता है कि वह पीड़ित ट्रक स्वामी को 7,00,000 रुपए 6 प्रतिशत वार्षिक साधारण ब्याज की दर से वाद दायर होने की तिथि से अदायगी की तिथि तक भुगतान करे। साथ ही 5000 रुपए वाद व्यय के रुप में भी अदा किए जाएं। यह भुगतान बीमा कंपनी को 30 दिन के अंदर करना होगा। अपने पक्ष में आदेश होने से पीड़ित ट्रक ने राहत की सांस ली है।