विप्रा को आवंटी को वापस करेगी अतिरिक्त धनराशि

0
18

मथुरा। एमवीडीए को आवंटित भूखंड को परिवर्तित कर आवंटी को दूसरा भूखंड देना और उस भूखंड पर धनराशि बढ़ाकर लेना भारी पड़ गया। उपभोक्ता फोरम ने प्राधिकरण को इस अनियमितता पर निर्णय देते हुए बढ़ी हुई धनराशि वापस करने, मानसिक क्षतिपूर्ति करने और वाद व्यय आवंटी को दिए जाने का निर्णय दिया है।
मथुरा के जनरलगंज निवासी विवेक कुमार सारस्वत पुत्र गिरवर सिंह को मथुरा-वृंदावन विकास प्राधिकरण की टाउनशिप स्थित कृष्णा विहार आवासीय योजना ;रांची बांगरद्ध में वर्ष 2004 में ड्रॉ के माध्यम से एक 162 वर्गमीटर भूखंड आवंटित हुआ था। इसके लिए विवेक कुमार ने 3,64,500 रुपए जमा किए थे लेकिन प्राधिकरण ने उस समय भूखंड के स्वामित्व को लेकर विवाद बताते हुए उन्हें दूसरा प्लाट लेने का विकल्प दिया। आवंटी विवेक कुमार ने दूसरा प्लाट लेने के लिए सहमति जताई। इस पर प्राधिकरण ने आवंटी से ली गई तयशुदा रकम से 1,15,633 रुपए अधिक लिए। साथ ही फ्री होल्ड चार्ज के रुप में 48174 रुपए भी विप्रा ने लिया। आवंटी ने इस मामले की शिकायत उपभोक्ता फोरम में की। विप्रा ने अपनी ओर से इस मामले में अपने साक्ष्य और तथ्य प्रस्तुत किए लेकिन उपभोक्ता फोरम ने इस मामले में विप्रा की सभी दलीलों को दरकिनारे करते हुए पीड़ित आवंटी को अधिक लिए गए 1,15,633 रुपए छह प्रतिशत साधारण ब्याज की दर से और वाद व्यय के रुप में पांच हजार रुपए दिए जाने का आदेश दिया है।
इसी तरह के एक दूसरे मामले में आगरा के कमला नगर निवासी रमेशचंद्र शर्मा पुत्र बांचाराम शर्मा के पक्ष में उपभोक्ता फोरम ने निर्णय दिया है। इस केस में भी विप्रा ने रमेशचंद्र शर्मा को आवंटित किए गए प्लाट पर विवाद बताते हुए उन्हें भी दूसरा प्लाट आवंटित करने का विकल्प दिया गया। दूसरे भूखंड को लेने के एवज में 1,15,478 रुपए अतिरिक्त लिए गए। आवंटी रमेशचंद्र शर्मा ने भी उपभोक्ता फोरम की शरण ली। उपभोक्ता फोरम ने आवंटी के पक्ष में निर्णय देते हुए 1,15,478 रुपए मय छह प्रतिशत की साधारण ब्याज की दर से और पांच हजार रुपए वाद व्यय के रुप अदा करने के लिए विकास प्राधिकरण को निर्देश दिए हैं।