मथुरा में बदस्तूर चल रहा है खनन का बेखौफ खेल

0
140
(File Photo)

मथुरा। सीबीआई द्वारा आईएएस बी. चंद्रकला, सपा एमएलसी रमेश मिश्रा और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हमीरपुर संजय दीक्षित 11 व्यक्तियों पर अवैध खनन के मामले में कार्यवाही से अवैध खनन एक बार फिर प्रदेश में सुर्खियों में है। सीबीआई ने आईएएस बी. चंद्रकला के लखनऊ स्थित आवास पर सीबीआई ने छापा मारा। उनके बैंक खाते और लॉकर सीज कर दिए गए हैं। खनन का यह खेल मथुरा में अब भी लगातार जारी है।

यह भी पढ़ें- मथुरा में भी चर्चा में रही थीं आईएएस बी. चंद्रकला

आईएएस बी. चंद्रकला मथुरा में भी डीएम रही हैं। यही कारण है कि मथुरा में भी इस कार्यवाही की चर्चा हो रही है। हालांकि एक दूसरा पहलू यह भी है कि मथुरा में भी खनन का खेल काफी पुराना है। मथुरा के विभिन्न क्षेत्रों में आज भी बालू खनन का खेल लगातार जारी है। यह खेल बकायदा महीनेदारी पर चलता है। रिफाइनरी क्षेत्र में आज भी रात्रि तो छोड़िए दिन में ही बालू से भरे ट्रैक्टर-ट्रॉलियां आसानी से देखे जा सकते हैं। सूत्रों के अनुसार इसके लिए पुलिस और प्र्रशासनिक अधिकारियों की जुगलबंदी होती है। मथुरा में यमुना की खादर खनन माफियाओं के लिए काफी मुफीद रही है। यमुना का सीना चीरकर खनन माफियाओं ने उसे छलनी कर दिया है। फिर चाहे मथुरा में किसी भी जिलाधिकारी का शासन रहा हो। कोई भी डीएम अवैध खनन के इस खेल को रोकने में नाकाम रहा। शेरगढ़, नौहझील, रिफाइनरी क्षेत्र सहित अन्य कई क्षेत्रों में खनन माफियाओं का राज चलता रहा है। खनन माफियाओं के रास्ते में जिस अधिकारी ने आने का प्रयास किया उसे ही रास्ते से हटाने के प्रयास शुरु हो गए। कई अधिकारियों को तो जान से मारने तक का प्रयास किया गया। वहीं कई अधिकारियों का स्थानांतरण करा दिया गया। सूत्र कहते हैं कि सपा शासनकाल में आईएएस बी. चंद्रकला के डीएम रहते भी अवैध खनन का खुला खेल खेला गया था। अवैध खनन की मोटी कमाई के लालच में अफसरों के साथ राजनेताओं की जुगलबंदी भी चर्चित रही है। खनन माफियाओं के हौंसले इसलिए ही बुलंद रहते हैं क्योंकि उन पर सत्ता पक्ष के नेताओं का वरदहस्त रहता है।