अफसरों के खिलाफ एफआईआर कराने वाले वादी के विरुद्ध दर्ज हुआ चौथ वसूली का मुकदमा

0
279

अफसरों के खिलाफ कोर्ट के आदेश पर पीड़ित ने कराया था मुकदमा दर्ज
तत्कालीन एसडीएम मांट, तहसीलदार और सीओ ने पीड़ित व्यक्ति का निर्माण किया था ध्वस्त
पीड़ित पर दबाव बनाने की रणनीति के तहत कराया मुकदमा

मथुरा। कोतवाली सुरीर के सुरीर बिजऊ में कुछ दिनों पूर्व कथित अतिक्रमण हटाने के मामले में अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज होने के बाद खलबली मच गई है। अधिकारी विभिन्न माध्यमों से पीड़ित व्यवसायी पर मुकदमा वापस लेने के लिए राजीनामा करने का दबाव बना रहे हैं। जब पीड़ित ने राजीनामा करने से इंकार कर दिया तो अब पीड़ित व्यक्ति पर चौथ वसूली का मुकदमा दर्ज कर दिया गया है। ताकि व्यवसायी परेशान होकर अधिकारियों के विरुद्ध दर्ज कराए गए मुकदमे को वापस ले ले।

प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों ने गत वर्ष 17 नवंबर को कस्बा सुरीर बिजऊ के व्यापारी गुलशन गुप्ता की जमीन पर बने निर्माण को अतिक्रमण बताते हुए ध्वस्त कर दिया था। जबकि इससे पहले न तो व्यवसायी को कोई नोटिस दिया गया न ही कोई चेतावनी दी गई। इस जमीन पर रखे हुए बिल्डिंग मैटेरियल के सामान को भी लूट ले गए। इससे पीड़ित बेरोजगार हो गया और पीड़ित व्यापारी की व्यथा को जब किसी आला अधिकारी ने नहीं सुना तो उसने हाईकोर्ट की शरण ली। हाईकोर्ट के आदेश पर 02 दिसंबर 2018 को तत्कालीन एसडीएम मांट वरुण कुमार पांडेय, तत्कालीन तहसीलदार मांट राकेश सोनी, तत्कालीन सीओ राकेश कुमार के साथ अन्य स्थानीय लोग देवेंद्र एवं अजीत पुत्र किशन, किशन पुत्र मानपाल, हनश्याम पुत्र दौलतराम, योगेश पुत्र भगवत, महमूद पुत्र मनिया और मुरारी पुत्र शिवचरन के नाम थाना सुरीर में मुकदमा दर्ज किया गया। यह मुकदमा भी कोर्ट द्वारा आदेश जारी होने के 18 दिन बाद दर्ज किया गया था। मुकदमा दर्ज होने के बाद अधिकारी मुकदमा वापस लेने के लिए पीड़ित पर दबाव बना रहे हैं। उन्हें तरह-तरह से परेशान किया जा रहा है। जान से मारने की धमकियां दी जा रही हैं। झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी दी जा रही थी। जब पीड़ित गुलशन ने किसी भी दबाव में न आते हुए राजीनामा से इंकार कर दिया तो उपरोक्त मामले में आरोपी किशन पुत्र मानपाल निवासी सुरीर बिजऊ के द्वारा चौथ वसूली का मुकदमा दर्ज कराया है। ताकि पीड़ित व्यापारी पर राजीनामा के लिए दबाव बनाया जा सके। आरोपी गुलशन का कहना है कि उन पर बदले की भावना से यह मुकदमा दर्ज कराया गया हैं। वह इस मामले में उच्च न्यायालय की शरण लेंगे। क्षेत्राधिकारी मांट जगवीर सिंह चौहान ने विषबाण को बताया कि वादी किशन एक स्थान पर ठेला लगाता है। आरोपी गुलशन उससे प्रतिमाह किराए के रुप में चौथ वसूली की मांग कर रहा है। आरोपी गुलशन पर पहले से भी कई मुकदमे दर्ज है। गुलशन के विरु( मुकदमा बदले की भावना से नहीं कराया गया है। आरोपी का यह आरोप एकदम गलत है।

जमीन पर टटिया लगाकर किया अतिक्रमण
जिस जमीन पर बने निर्माण को अतिक्रमण बताते हुए अधिकारियों ने बिना किसी कानूनी कार्यवाही के ध्वस्त कर दिया था। उसी जमीन के आगे अधिकारियों की शह पर आरोपी किशन टटिया लगाकर चाय आदि की दुकानदारी कर रहा है। पीड़ित गुलशन का आरोप है कि इस दुकान पर नशीले पदार्थ की बिक्री के साथ सट्टेबाजों का भी जमावड़ा लगा रहता है। इसकी शिकायत भी वह कई बार थाना और तहसील में कर चुके हैं लेकिन कोई भी कार्यवाही नहीं की जा रही है।