मथुरा। शिक्षा विभाग में भ्रष्टाचार की जड़ें कितनी गहरी हैं इसका खुलासा एक बार फिर विजीलेंस टीम की छापेमारी में हुआ है जहां मांट क्षेत्र में प्रशिक्षण के बदले प्रशिक्षु अध्यापक से 50 हजार की रिश्वत मांगे जाने पर प्रशिक्षु शिक्षक से 10 हजार की रिश्वत लेते हुऐ रंगे हाथ प्रधानाध्यापक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।

‘विषबाण’ टीम के कैमरे में कैद हुआ पूरा स्टिंग आॅपरेशन, देखें…

प्रशिक्षु शिक्षक सुनील कुमार जिसने रिश्वत लेते पकड़वाया प्रधानाध्यापक

मथुरा जनपद में शिक्षा विभाग में चल रहा भ्रष्टाचार का खुला खेल थमने के नाम नहीं ले रहा है। फर्जी शिक्षक भर्ती घोटाले मामले का अभी पर्दाफास भी नहीं हो पाया था कि प्रशिक्षण के नाम पर मांट क्षेत्र के गांव नगला नत्था (रामनगरा) के प्राइमरी विद्यालय के प्रधानाध्यापक नवीन कुमार ने प्रशिक्षु शिक्षक सुनील कुमार निवासी प्रेम नगर मांट मथुरा से डीएलएड ट्रैनिंग के नाम पर 50 हजार सुविधा शुल्क की मांग की जिसमें पहली किस्त के रूप में 10 हजार की राशि मांगने पर प्रधानाध्यापक को दे दी गई। जब दूसरी बार बकाया राशि मांगी तो प्रशिुक्षु शिक्षक ने विजीलेंस कार्यालय आगरा से शिकायत की। जिसपर बिजीलेंस टीम के क्षेत्राधिकारी कृष्ण मुरारी यादव के नेतृत्व में 9 सदस्यी टीम ने विद्यालय एवं आरोपी प्रधानाध्यापक नवीन कुमार अग्रवाल को 10 हजार की रिश्वत लेते हुऐ रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। जिसे बाद में विजीलेंस टीम मांट थाने लेकर आयी जहां कानूनी कार्यवाही के बाद आरोपी शिक्षक को मेरठ ले गई।
बताते चलें कि पूर्व में भी जिलाविद्यालय निरीक्षक मथुरा के.एल वर्मा, बाबू अशोक शर्मा, बीएसए कार्यालय के बाबू कुंज बिहारी शर्मा को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है।